ताज़ा खबर
 

अर्थव्यवस्था पर शिवसेना ने दी मोदी सरकार को नसीहत- गंभीरता से लें मनमोहन की सलाह

शिवसेना ने मुखपत्र सामना में एक लेख के जरिए यह सलाह दी है। मनमोहन ने कहा है कि अर्थव्यवस्था के मौजूदा हालातों ने देश को लंबे समय की मंदी की तरफ धकेल दिया है।

Author मुंबई | Updated: September 4, 2019 2:23 PM
पीएम मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। फोटो: इंडियन एक्सप्रेस/ जनसत्ता

धीमी अर्थव्यवस्था पर शिवसेना ने कहा है कि मोदी सरकार को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सलाह को गंभीरता से लेना चाहिए। शिवसेना के मुताबिक अगर मोदी सरकार ऐसा करेगी तो यह राष्ट्रहित में होगा। हाल ही में मनमोहन सिंह ने एक वीडियो जारी कर मोदी सरकार के पहले और दूसरे कार्यकाल में लिए गए फैसलों को अर्थव्यवस्था के लिए घातक बताया था। उन्होंने कहा है कि अर्थव्यवस्था के मौजूदा हालातों ने देश को लंबे समय की मंदी की तरफ धकेल दिया है। सरकार आर्थिक मोर्चे पर आलोचनाओं के घेरे में है।

शिवसेना ने मुखपत्र सामना में एक लेख के जरिए सलाह दी है। शिवसेना ने सामना में लिखा ‘देश में आर्थिक मंदी के कारण जो भंयकर स्थिति उत्पन्न हुई है, इसकी भविष्यवाणी मनमोहन सिंह ने चार साल पहले ही कर दी थी। उस दौरान उनका मजाक उड़ाया गया था। सच तो यह है कि उन्होंने बुरे दौर में भी अर्थव्यवस्था के लिए परिश्रम किया। अगर उन्हें मौजूदा समय में इसमें गलतियां नजर आ रही होंगी तो उन्हें इसके लिए बोलने का हक है। उन्होंने कहा है कि सरकार की नीतियों की वजह से लाखों लोगों पर नौकरी गंवाने का संकट आ गया है।’

लेख के अंत में कहा गया कि ‘बीते कई सालों से अर्थव्यवस्था का संबंध पार्टी फंड, चुनाव जीतने और घोड़ा बाजार आदि तक के लिए ही सीमित रह गया है। इससे देश की व्यवस्था को चोंट पहुंच रही है। आर्थिक मंदी पर राजनीति न करें। विशेषज्ञों की मदद लेकर देश की तस्वीर बदलें। मनमोहन सिंह ने भी यही सलाह दी है। इनकी सलाह को गंभीरता से लेने में ही राष्ट्र का हित है।’

मालूम हो कि पूर्व प्रधानमंत्री ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर घटकर पांच प्रतिशत पर आने के बाद उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि आर्थिक हालात ‘बेहद चिंताजनक हैं और यह नरमी मोदी सरकार के तमाम कुप्रबंधनों का परिणाम है। पहली तिमाही में 5 फीसदी की जीडीपी वृद्धि दर दर्शाती है कि हम लंबे समय तक बने रहने वाली आर्थिक नरमी के दौर में हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी से बढ़ने की क्षमता है। पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, ‘भारत इसी दिशा में चलना जारी नहीं रख सकता। इसलिए मैं सरकार से अपील करता हूं कि वह प्रतिशोध की राजनीत को त्याग कर मानव निर्मित संकट से अर्थव्यवस्था को निकालने के लिए सुधी जनों की आवाज सुनें।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Kerala Akshaya Lottery AK-411 Results: इनका लगा लाखों का इनाम, यहां चेक करें आपका लगा या नहीं?
2 माचिस न देने पर यूथ कांग्रेस नेता ने होटल कर्मचारी को पीटा! सामने आया VIDEO
3 सेना ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पाकिस्तान के घुसपैठिए पेश किए, वीडियो जारी कर दिखाया कबूलनामा