ताज़ा खबर
 

कांग्रेस-एनसीपी संग सरकार बनाने पर शिवसेना नेता ने दिया इस्तीफा, बोला- विचारधारा इजाजत नहीं देती

पार्टी नेता रमेश सोलंकी ने ट्वीटर पर इसकी जानकारी साझा की। उन्होंने कांग्रेस-एनसीपी संग सरकार गठन पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि उनकी विचारधारा इस बात की इजाजत नहीं देती कि वह आगे नए समीकरणों के साथ शिवसेना के लिए काम करें।

Author Edited By मोहित Updated: November 27, 2019 2:08 PM
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और रमेश सोलंकी। फोटो: Ramesh Solanki/Twitter

देवेंद्र फड़णवीस के महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को गठबंधन का नेता चुने जाने के बाद शिवसेना नेता रमेश सोलंकी ने मंगलवार को इस्तीफा दे दिया। सोलंकी ने ट्वीटर पर इसकी जानकारी साझा की। उन्होंने शिवसेना के कांग्रेस-एनसीपी संग सरकार के साथ मिलकर सरकार बनाने पर नाराजगी जाहिर की। सोलंकी ने कहा कि उनकी विचारधारा इस बात की इजाजत नहीं देती कि वह आगे नए समीकरणों के साथ शिवसेना के लिए काम करें।

उन्होंने ट्वीट किया ‘मैंने भारी दिल से अपनी जिंदगी का सबसे मुश्किल निर्णय लिया है। मैं शिवसेना का सीएम बनाए जाने पर सभी सभी को बधाई देता हूं। लेकिन मेरी विचारधारा मुझे इस बात की इजाजत नहीं देती कि मैं कांग्रेस के साथ काम करूं। मैं बिना मन लगे काम नहीं कर सकता और ऐसा करना मेरे पद, मेरे साथियों और शिवसैनिक के लिए भी सही नहीं होगा।’

रमेश सोलंकी ने आगे कहा ‘मैं हमेशा बालासाहेब का शिवसैनिक रहूंगा। सभी शिवसैनिक मेरे भाई और बहन हैं और उनके साथ 21 सालों तक जुड़े रहना मेरे लिए गर्व की बात रही। मैं ऐसे समय पर शिवसेना से अलग हो रहा हूं जब राज्य में पार्टी पहले से ज्यादा मजबूत है।’

गौरतलब है कि देवेंद्र फड़णवसी ने पांच दिन पहले ही अजित पवार खेमे के समर्थन से सरकार गठन किया था। जिसे विपक्षी दलों (शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी) ने असंवैधानिक करार देते हुए राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के फैसले को चुनौती दी थी। कोर्ट ने बुधवार को फ्लोर टेस्ट करवाने का आदेश जारी किया। हालांकि इस आदेश के कुछ घंटों बाद ही सबसे पहले अजित पवार ने उप-मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया और फिर देवेंद्र फड़णवीस ने।

इसके  बाद उद्धव को तीनों दलों का नेता चुन लिया गया। वह मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। उद्धव ठाकरे परिवार से आने वाले पहले मुख्यमंत्री होंगे। हालांकि सीएम पद पर तो एक राय बन चुकी है लेकिन सरकार में कौन-कौन मंत्री होगा इसपर भी तीनों ही पार्टियों को गहन विचार करना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बिहार में कुत्ते- घोड़े और लाठी तक भी जमीन के मालिक, ठीक से नहीं लागू हुआ जमींदारी उन्मूलन; गोवा के राज्यपाल बोले
2 आख‍िर अज‍ित पवार का क्‍या है महाराष्‍ट्र का स‍िंंचाई घोटाले से कनेक्‍शन, जान‍िए
3 अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सुन्नी वक्फ बोर्ड का यू-टर्न, कहा- दाखिल करेंगे रिव्यू पिटीशन
ये पढ़ा क्‍या!
X