ताज़ा खबर
 

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे बोले- योगी आदित्यनाथ को चप्पलों से पीटना चाहिए

शिवसेना प्रमुख से यह सवाल पूछा गया था कि क्या उन्हें इस बात का अफसोस है कि पिछले 25 साल से भारतीय जनता पार्टी उनकी सहयोगी है? इस पर उद्धव ठाकरे ने कहा, 'यह दुभाग्यपूर्ण है , कुछ चीजों को लेकर अफसोस है, क्योंकि भारतीय जनता पार्टी की नई पीढ़ी में हिंदुत्व के आदर्श नहीं दिखते।'

Author Updated: May 26, 2018 11:40 AM
शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

शिवसेना बीते काफी वक्त से भारतीय जनता पार्टी पर हमलावर रही है। महाराष्ट्र की सत्ता में भले ही दोनों पार्टियां भागीदार हों, लेकिन नेताओं के बीच तल्खी कम होते नजर नहीं आ रही। इसी क्रम में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे शुक्रवार को बीजेपी पर हमला बोलते बोलते भाषा की मर्यादा तोड़ बैठे। उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ को चप्पलों से पीटना चाहिए। ठाकरे के मुताबिक, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिवाजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते वक्त खड़ाऊं पहन रखे थे। शिवसेना प्रमुख ने इसे शिवाजी का अपमान बताते हुए योगी आदित्यनाथ पर यह आपत्तिजनक टिपपणी की। उद्धव ठाकरे ने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी के युवा नेताओं में हिंदुत्व के आदर्श नहीं नजर आते।

दरअसल, शिवसेना प्रमुख से यह सवाल पूछा गया था कि क्या उन्हें इस बात का अफसोस है कि पिछले 25 साल से भारतीय जनता पार्टी उनकी सहयोगी है? इस पर उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘यह दुभाग्यपूर्ण है, कुछ चीजों को लेकर अफसोस है, क्योंकि भारतीय जनता पार्टी की नई पीढ़ी में हिंदुत्व के आदर्श नहीं दिखते।’ उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के बाद बीजेपी ‘अहंकारी’ हो गई है । उनके मुताबिक, 28 मई को होने वाला पालघर लोकसभा उपचुनाव घमंड और वफादारी के बीच फैसला करेगा। विरार में शिवाजी की मूर्ति को माला पहनाने के दौरान खड़ाऊं नहीं उतारने को लेकर भी शिवसेना प्रमुख उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर बरसे।

उन्होंने कहा, ‘ईश्वर के प्रतिरूप शिवाजी महाराज की प्रतिमा के सामने जाने से पहले खड़ाऊं उतारना उनके प्रति सम्मान जाहिर करना है और यह एक सामान्य प्रक्रिया है। योगी ने ऐसा नहीं किया। उनसे और क्या अपेक्षा की जा सकती है? यह शिवाजी महाराज का अपमान है।’ उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर आदित्यनाथ एक योगी हैं तो शिवाजी ‘श्रीमंत योगी’ हैं। बता दें कि शिवसेना के लगातार हमलों के बावजूद बीजेपी अभी तक बेहद संभलकर प्रतिक्रिया देती रही है। हालांकि, महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने हाल ही में कहा था कि बाला साहब की शिवसेना पीठ में छुरा नहीं भोंकती थी। उद्धव ठाकरे ने कहा कि उनके पिता बाल ठाकरे ने भाजपा के ‘बुरे कर्मों’ को बर्दाश्त किया लेकिन वह ऐसा नहीं करेंगे। ठाकरे के मुताबिक, उनकी पार्टी 25 सालों तक हिंदुत्व के लिए बीजेपी के साथ रही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 रोहिंग्या मुद्दे पर बांग्लादेश ने मांगी भारत से मदद
2 प्रकाश प्रकाश जावड़ेकर के इस फैसले के फैन हुए सचिन तेंदुलकर, ट्वीट कर अदा किया शुक्रिया
3 हार्दिक पटेल बोले- हमारे दोनों बेटे पेट्रोल और डीजल कंट्रोल में नहीं हैं, लोग करने लगे ट्रोल