ताज़ा खबर
 

सुब्रमण्‍यम के समर्थन में आई शिवसेना, स्‍वामी की बयानबाजी से परेशान हुई भाजपा

भाजपा पर निशाना साधते हुए शिवसेना ने कहा कि पार्टी गांधी परिवार के खिलाफ नेशनल हेराल्ड मामले में स्वामी का ‘इस्तेमाल’ करने के बाद मुख्य आर्थिक सलाहकार से जुड़ी उनके बयानों से पल्ला नहीं झाड़ सकती।

Author नई दिल्ली | June 24, 2016 7:50 PM
राज्यसभा में भाजपा सांसद सुब्रमण्‍यम स्वामी (फोटो-पीटीआई)

राज्यसभा में भाजपा सांसद सुब्रमण्‍यम स्वामी की बयानबाजी से भाजपा नेतृत्व परेशान होता दिख रहा है। वहीं दूसरी ओर महाराष्ट्र में भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना स्वामी का समर्थन कर रही है। स्वामी वित्त मंत्री अरुण जेटली सहित टॉप ब्यूरोक्रेट्स पर निशाना साध रहे हैं। सरकार के ही मंत्री पर निशाना साधने पर भाजपा ने स्वामी की बयानबाजी को गंभीरता से लिया है।

Read Also: स्वामी ने साधा जेटली पर निशाना, वित्त मंत्रालय में ‘तूफान’ लाने की धमकी

पार्टी सूत्रों का कहा है कि स्वामी के वित्त मंत्रालय के खिलाफ अनियंत्रित बयानबाजी और वित्तमंत्रालय में तूफान ला देने की धमकी को लेकर पार्टी में चर्चा है। साथ ही सूत्रों का कहना है कि पार्टी स्वामी के खिलाफ एक्शन लेने के लिए जल्दबाजी नहीं करेगी। पार्टी ने कुछ समय के लिए वेट एंड वॉच की रणनीति अपनाई है।

भाजपा के एक सीनियर नेता ने उन अटकलों को खारिज करने की कोशिश की, जिसमें कहा जाता है कि स्वामी को आरएसएस का मजबूत समर्थन हासिल है। उन्होंने कहा कि संघ परिवार कभी भी इस तरह के खुले हमलों को स्वीकार नहीं करता, जिससे सरकार और पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचे।

Read Also: स्वामी ने अब आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकान्त दास पर बोला हमला, जेटली ने बताया ‘गलत’

वहीं शिवसेना ने स्वामी का समर्थन करते हुए कहा कि वह सुब्रह्मण्यम स्वामी के विचारों की सराहना करती है। भाजपा पर निशाना साधते हुए शिवसेना ने कहा कि पार्टी गांधी परिवार के खिलाफ नेशनल हेराल्ड मामले में स्वामी का ‘इस्तेमाल’ करने के बाद मुख्य आर्थिक सलाहकार से जुड़ी उनके बयानों से पल्ला नहीं झाड़ सकती।

Read Also: अरविंद सुब्रमण्यम पर स्वामी के आरोप से पार्टी ने झाड़ा पल्ला, कहा- उनकी निजी राय, पार्टी का कोई लेना-देना नहीं

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के एक संपादकीय में कहा, ‘हमें स्वामी के साथ एक जुड़ाव महसूस होता है क्योंकि वह हिन्दुत्व और भ्रष्टाचार के खिलाफ अपने रूख के लिए मशहूर हैं। सोनिया और राहुल गांधी को उनका दु:स्वप्न आता होगा। उनकी पहल के कारण ही टूजी स्पेक्ट्रम और नेशनल हेराल्ड घोटाले सामने आए और उस समय भाजपा ने स्वामी का पूरी तरह इस्तेमाल किया था।’ अब अगर स्वामी अपने तरीके से कोई सच्चाई बयां कर रहे हैं तो भाजपा यह कहकर उससे पल्ला नहीं झाड़ सकती कि वे उनके व्यक्तिगत विचार हैं।’’

Read Also: अरविंद की बुराई करने पर ऐसे उड़ा स्वामी का मजाक, लोग बोले- ऐसा कोई है जिसे स्वामी पसंद करते हों ?

गौरतलब है कि शुक्रवार को स्वामी ने बिना नाम लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली पर निशाना साधते हुए अपने ट्वीट में कहा, ‘मुझे अनुशासन और नियंत्रण की सलाह देने वाले लोग यह नहीं समझ रहे कि यदि मैंने अनुशासन की उपेक्षा की तो तूफान आ जाएगा।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App