ताज़ा खबर
 

साईंबाबा के जन्मस्थान का विवाद बेवजह, CM उद्धव ठाकरे को दोष देना गलत; सामना में शिवसेना की सफाई

Shirdi Sai Baba Controversy: सामना के संपादकीय में कहा गया, ‘‘गजट मुख्यमंत्री उद्धव ने नहीं लिखा, न प्रकाशित करवाया। इसलिए विवाद का दोष उन पर नहीं मढ़ा जा सकता।’’

Author मुंबई | Updated: January 21, 2020 1:18 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

Shirdi Sai Baba Controversy, Shiv Sena: शिवसेना ने मंगलवार को कहा कि साईंबाबा की जन्मस्थली को लेकर उपजा विवाद बेवजह है और इसके लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को दोष नहीं दिया जाना चाहिए क्योंकि यह तो कोई नहीं बता सकता है कि 19वीं सदी के संत का जन्म वास्तव में शिरडी में हुआ था अथवा नहीं। शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादकीय में कहा गया कि शिरडी साईंबाबा की बदौलत समृद्ध हुआ है और जिस शहर में संत की मृत्यु हुई, वहां की समृद्धि को कोई नहीं छीन सकता।

सामना में लिखी यह बात: इसमें यह भी कहा गया कि साईंबाबा संस्थान की संपत्ति 2,600 करोड़ रुपये से अधिक है और इससे सामाजिक कार्य किए जाते हैं। ठाकरे ने परभणी जिले के पाथरी को ‘‘अपने मन से’’ साईंबाबा का जन्मस्थान नहीं बताया था बल्कि इसका आधार कुछ इतिहासकारों के मत थे। मुखपत्र में कहा गया है ‘‘मुख्यमंत्री ने कोई विवाद खड़ा नहीं किया। पाथरी और शिरडी के लोगों को भी ऐसा नहीं करना चाहिए। इससे साईंबाबा की आभा फीकी पड़ेगी।’’ सामना में कहा गया कि साईंबाबा शिरडी के अहमदनगर में अवतरित हुए थे लेकिन यह कोई नहीं कह सकता है कि उनका जन्म वहां हुआ था।

Hindi News Live Hindi Samachar 21 January 2020: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

उद्धव ठाकरे का बयान: सामना के मुताबिक, नौ जनवरी को राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में ठाकरे ने कहा था कि साईंबाबा का जन्मस्थान माने जाने वाले पाथरी को धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। इसके लिए उन्होंने 100 करोड़ रुपये के अनुदान की घोषणा भी की थी। खड़े हुए विवाद के चलते शिरडी के लोगों ने रविवार को बंद की घोषणा की जिसे वापस ले लिया गया। फिर मुख्यमंत्री ने शिरडी के कुछ लोगों से मुलाकात की और यह विवाद हल हो गया।

दोष उन पर नहीं मढ़ा जा सकता: लेख में कहा गया, ‘‘बाबा शिरडी में कहां से आए थे, क्या वह पाथरी से आए थे। परभणी के सरकारी गजट में जिक्र है कि कुछ लोगों के मुताबिक यह (पाथरी) शिर्डी के साईंबाबा का जन्मस्थान हो सकता है।’’ संपादकीय में कहा गया, ‘‘गजट मुख्यमंत्री ने नहीं लिखा, न प्रकाशित करवाया। इसलिए विवाद का दोष उन पर नहीं मढ़ा जा सकता।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली चुनाव 2020: नामांकन भरने पहुंचे केजरीवाल का विरोध, अंदर जाने पर जामनगर हाउस में हुई हाथापाई
2 Delhi polls: आप उम्मीदवार जितेंद्र सिंह तोमर का कटा टिकट, पार्टी ने पत्नी को मैदान में उतारा
3 मोदी सरकार के J&K प्लान पर मणिशंकर अय्यर का हमला, बोले- डरपोक है, 31 मंत्री जा रहे जम्मू, कश्मीर में सिर्फ पांच
ये पढ़ा क्या?
X