ताज़ा खबर
 

भाजपा में शामिल हो रहे लखनऊ के शिया, कोलकाता के इमाम बोले- उन्‍हें छला गया

लखनऊ के शिया मुसलमानों के बीजेपी से जुड़ने के कदम की कोलकाता के शिया इमामों ने आलोचना की है। उन्होंने कहा है कि लखनऊ के शिया मुसलमानों का फैसला पूरी कौम की नुमाइंदिगी नहीं करता।

Author नई दिल्ली | July 4, 2018 11:54 AM
कोलकाता में प्रेस कांफ्रेंस करते शिया धर्मगुरु(फोटो-शुभम दत्ता)

लखनऊ के शिया मुसलमानों के बीजेपी से जुड़ने के कदम की कोलकाता के शिया इमामों ने आलोचना की है। उन्होंने कहा है कि लखनऊ के शिया मुसलमानों का फैसला पूरी कौम की नुमाइंदिगी नहीं करता। कोलकाता में शिया इमामों ने प्रेस कांफ्रेंस कर यह बात कही।मौलाना जकी हुसैन रिजवी ने कहा-लखनऊ में शिया मुसलमानों को बीजेपी से जुड़ने के लिए कैसे तैयार किया गया, इसके हमारे पास सुबूत है। एक भ्रष्ट नेता की इसमें भूमिका है।

इस समय बीजेपी में भ्रष्ट लोगों को शामिल करने का नया ट्रेंड चल निकला है।भ्रष्ट लोग कानूनी राहत पाने की कोशिश में बीजेपी से जुड़ रहे हैं।इस फैसले का शिया समुदाय से कोई लेना-देना नहीं है। एक और शिया धर्मगुरु मौलाना सैयद फिरोज हुसैन जैदी ने बीजेपी पर बांटने की राजनीति का इल्जाम मढ़ा। उन्होंने कहा-यह कहा जा रहा है कि शियाओं ने बीजेपी ज्वॉइन की, यह सही नहीं है। हर धर्म-समुदाय के लोगों में बीजेपी फूट डालने की कोशिश कर रही है।हम गैरराजनीतिक लोग हैं, हमें राजनीति से दूर रहना चाहिए।

बता दें कि 25 जून को राष्ट्रीय शिया समाज लखनऊ के बैनर तले हुए कार्यक्रम में 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए नरेंद्र मोदी के समर्थन का एलान किया गया था। इस दौरान लखनऊ के शिया मुस्लिमों ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का भी समर्थन किया था। जिसको लेकर राष्ट्रीय स्तर पर मुसलमानों में प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। कोलकाता के शिया मुसलमान लखनऊ के शियाओं के इस निर्णय पर भड़क उठे और प्रेस कांफ्रेंस कर उन्होंने भड़ास निकाली। कहा कि लखनऊ के कुछ शिया मुसलमानों के निर्णय को पूरी शिया कौम का निर्णय नहीं माना जा सकता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App