इंद्राणी मुखर्जी होश में, निगरानी में रहेंगी - Jansatta
ताज़ा खबर
 

इंद्राणी मुखर्जी होश में, निगरानी में रहेंगी

अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या की मुख्य आरोपी और मीडिया उद्यमी इंद्राणी मुखर्जी आज होश में आ गई और अब वह खतरे से पूरी तरह बाहर हैं। दो दिनों पहले गंभीर..

Author मुंबई | October 5, 2015 8:28 AM
इंद्राणी मुखर्जी को 25 अगस्त को खार पुलिस ने अपकी बेटी शीना बोरा की 2012 में हुई हत्या में कथित भूमिका के लिए गिरफ्तार कर लिया था। (पीटीआई फाइल फोटो)

अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या की मुख्य आरोपी और मीडिया उद्यमी इंद्राणी मुखर्जी आज होश में आ गई और अब वह खतरे से पूरी तरह बाहर हैं। दो दिनों पहले गंभीर हालत में इंद्राणी को अस्पताल में दाखिल कराया गया था।

जेजे अस्पताल के डीन डॉ टीपी लहाने ने संवाददाताओं से कहा, ‘इंद्राणी होश में हैं। उनसे जब कुछ कहा जा रहा है तो वह प्रतिक्रिया कर रही हैं। उनकी हालत अच्छी है। परंतु हम उन्हें छुट्टी देने के बारे में राय लेने और मनोचिकित्सक से परामर्श लेने से पहले अगले 24-48 घंटे के लिए निगरानी में रखेंगे।’

लहाने ने कहा, ‘वह अब भी तंद्रा अवस्था में हैं लेकिन उनको पानी सहित कुछ तरल पदार्थ देते आ रहे हैं। इंद्राणी अब पूरी तरह से खतरे से बाहर हैं।’ इसके साथ ही लहाने यह कहा, ‘48 घंटे के भीतर हम उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे देंगे।’ इंद्राणी को बीते शुक्रवार को बायकला जेल से जेजे अस्पताल में दाखिल कराया गया था। अवसाद खत्म करने वाली गोलियां कथित तौर पर अधिक मात्रा में लेने के कारण उनकी हालत बिगड़ी थी। उस वक्त वह बेहोशी की हालत में थीं।

अत्यधिक मात्रा में दवा लेने के संदेह को लेकर अलग अलग फोरेंसिक रिपोर्ट के बारे में पूछे जाने पर लहाने ने कहा, ‘फोरेंसिक जांच विश्वसनीय और वास्तविक है और हमने रिपोर्ट के तथ्यों को स्वीकार कर लिया है।’ उन्होंने कहा, ‘हम क्लीनिकल नतीजों के आधार पर उनको उपचार देते आ रहे हैं और उन पर हमारे उपचार का असर हो रहा है।’

डॉ लहाने ने कल कहा कि हिंदुजा अस्पताल से इंद्राणी के मूत्र के नमूने की एक रिपोर्ट में उनके शरीर में अवसादरोधक दवा ‘बेंजोडाइजेपाइन’ का स्तर अधिक होने की पुष्टि हुई है। डॉ लहाने ने कहा, ‘सामान्य तौर पर अगर कोई मरीज अवसादरोधी दवा ले रहा है तो उसके मूत्र में बेंजोडाइजेपाइन का स्तर 200 होता है। लेकिन हिंदुजा अस्पताल की रिपोर्ट के अनुसार, बेंजोडाइजेपाइन का स्तर 2088 पाया गया। दवा की अधिक खुराक के लिए रिपोर्ट पॉजिटिव है। मिर्गी रोधक दवाओं को पहले ही नकारा जा चुका है। जांच के परिणाम नकारात्मक रहे। केवल अवसाद रोधक दवा के कारण ही यह (बेहोश होना) हुआ।’

मीडिया की जानी मानी हस्ती पीटर मुखर्जी की पत्नी इंद्राणी को खार पुलिस ने अपनी पहली शादी से पैदा हुई बेटी शीना बोरा की 2012 में हुई हत्या में कथित भूमिका को लेकर 25 अगस्त को गिरफ्तार किया था।
इंद्राणी की 24 साल की बेटी का बांद्रा में नेशनल कालेज के बाहर से कथित तौर पर अपहरण कर लिया गया था और एक कार में इंद्राणी, उसके पूर्व पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्यामवर राय ने कथित रूप से गला घोंट कर हत्या कर दी थी।

इंद्राणी के वकील ने अस्पताल मेंं उससे मिलने की अनुमति हासिल करने के लिए स्थानीय अदालत में याचिका दाखिल की है और अदालत ने उसकी हालत के बारे में फिर से रिपोर्ट मांगी है। सुनवाई के दौरान शीना बोरा हत्याकांड की जांच को अपने हाथ में लेने वाली सीबीआइ ने अदालत को बताया कि जांच शुरुआती चरण में है और अपराध की गंभीरता बहुत अधिक है।

यह पूछे जाने पर कि अत्यधिक मात्रा में दवा लेने की रिपोर्ट की गलत है तो लहाने ने कहा, ‘अत्यधिक मात्रा में दवा के बारे में जो भी बातें हुई हैं इन्हें दो तरह से स्पष्ट कर सकते हैं। हमने दिमाग का एमआरआइ किया और पाया की दिमाग सामान्य है।’ उन्होंने कहा कि इसके अनुरूप उपचार किया गया और इंद्राणी पर इलाज का असर हो रहा है। अब वह होश में हैं।

इस बीच, मुख्य गृह सचिव (कारागार) विजय सतबीर सिंह ने बताया कि जांच कई पहलुओं को ध्यान में रख कर की जा रही है कि क्या इंद्राणी ने जिस दवा या किसी जहरीले पदार्थ का सेवन किया, उसका नुस्खा डॉक्टरों ने लिखा था और क्या दवा की खुराक ज्यादा थी, तो यह कैसे हुआ?

उन्होंने कहा कि जांच में यह भी देखा जा रहा है कि क्या कोई लापरवाही बरती गई और अगर ऐसा है तो इसके लिए जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सिंह ने कहा था, ‘होश में आने के बाद वह जो बयान देंगी उससे इस बारे में महत्त्वपूर्ण जानकारी मिलेगी कि वह कैसे बेहोश हुईं और यदि दवा की अधिक खुराक ली गई है तो ऐसा कैसे हुआ?’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App