ताज़ा खबर
 

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर पर शरद पवार का निशाना- बम धमाकों के आरोपियों को टिकट देना लोकतंत्र पर हमला करने जैसा

शरद पवार ने कहा कि वे इस बात पर विश्वास नहीं कर सकते कि एक मुस्लिम 'जुमा' पर धमाका कर सकता है क्योंकि इस समुदाय के लिए यह एक पवित्र दिन माना गया है।

Author नई दिल्ली | June 10, 2019 7:23 PM
राकंपा के अध्यक्ष शरद पवार। (Photo: ANI)

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकंपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने सोमवार (10 जून) को मध्य प्रदेश के भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा के ऊपर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बम धमाकों के आरोपियों को टिकट देना लोकतंत्र पर हमला करने जैसा है। पवार ने नई दिल्ली में संवाददाताओं से कहा, “एक ऐसी महिला को टिकट देना जिसके ऊपर मालेगांव ब्लॉस्ट जैसे गंभीर आरोप जैसे हैं, वह लोकतंत्र को तोड़ने का प्रयास जैसा है। यह उस महिला के बारे में है, जिसे मध्य प्रदेश से चुना गया है।”

पवार ने कहा कि वे इस बात पर विश्वास नहीं कर सकते कि एक मुस्लिम ‘जुमा’ पर धमाका कर सकता है क्योंकि इस समुदाय के लिए यह एक पवित्र दिन माना गया है। उन्होंने आगे कहा कि वे उस मामले में मुसलमानों की गिरफ्तारी का विरोध किए थे, जिसमें मुंबई एटीएस के प्रमुख हेमंत करकरे ने प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ्तार किया था। उन्होंने कहा, “मालेगांव ब्लॉस्ट शुक्रवार के दिन एक मस्जिद में हुआ था। मैं यह विश्वास नहीं कर सकता कि एक मुस्लिम ‘जुमा’ के दिन ब्लास्ट कर सकता है। यही वजह है कि मैंने एजेंसी द्वारा शुरू में इस समुदाय के लोगों को गिरफ्तार किए जाने पर आपत्ति जताई थी। तब हेमंत करकरे ने उसे गिरफ्तार किया था, जो राष्ट्रपति के संबोधन के दौरान संसद में बैठेंगी।”

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह प्रज्ञा सिंह ठाकुर स्पेशल एनआईए कोर्ट में एनआईए जज विनोद पदलाकर के समक्ष हाजिर हुईं थी, जहां उनसे मालेगांव विस्फोट के बारे में सवाल पूछे गए थे। भोपाल सांसद के अलावा, लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित, मेजर (रिटायर्ड) रमेश उपाध्याय, सुधाकर द्विवेदी, अजय रहीरकर, समीर कुलकर्णी ओर सुधाकर चतुर्वेदी भी मालेगांव ब्लास्ट मामले में आरोपी हैं। इनके ऊपर यूएपीए तथा आईपीसी की कई धाराओं के तहत मामला जर्द है।

बता दें कि चुनाव के समय में भी साध्वी प्रज्ञा के ऊपर दर्ज मामले को लेकर विरोधियों ने काफी प्रहार किए थे। हालांकि, विरोधियों के हमले का कोई खास प्रभाव तत्कालीन भाजपा उम्मीदवार (भोपाल लोकसभा) पर नहीं पड़ा। भाजपा का गढ़ माने जाने वाले इस सीट पर साध्वी प्रज्ञा ने कांग्रेस उम्मीदवार और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को शिकस्त दे संसद पहुंच गईं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X