ताज़ा खबर
 

मुस्लिम बुद्धिजीवियों से राहुल की मुलाकात पर भड़की बीजेपी? कहा- शरिया कानून पर भी बताएं अपनी राय

शाहनवाज हुसैन ने राहुल गांधी से पूछा है कि राहुल गांधी यह बतायें कि क्या वो भारत मे शरिया कानून पर तैयार हैं? साथ ही साथ भाजपा नेता ने राहुल गांधी से यह भी पूछा कि क्या वो सेना के पराक्रम पर अपने नेताओं के बयान के साथ हैं?

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन। (फोटो स्रोत यूट्यूब)

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शाहनवाज हुसैन ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से पूछा है कि शरिया कानून पर उनकी क्या राय है? शाहनवाज हुसैन ने राहुल गांधी पर धर्म के आधार पर देश को बांटने का आरोप भी लगाया है।

क्या कहा शाहनवाज हुसैन ने? पटना में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए भाजपा नेता ने राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा। शाहनवाज हुसैन ने कहा कि जब चुनाव करीब आते हैं तब ही राहुल गांधी को मुसलमान नजर आते है। उन्होंने कहा कि गुजरात में राहुल गांधी ने जनेऊ धारण किया और मंदिर गये लेकिन वो अब मुस्लिम बुद्धिजिवियों को भी धर्म के आधार पर बांट कर देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। शाहनवाज हुसैन ने राहुल गांधी से पूछा है कि राहुल गांधी यह बतायें कि क्या वो भारत मे शरिया कानून पर तैयार हैं? साथ ही साथ भाजपा नेता ने राहुल गांधी से यह भी पूछा कि क्या वो सेना के पराक्रम पर अपने नेताओं के बयान के साथ हैं?

मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मिले थे राहुल: दरअसल इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष ने बीते बुधवार (11 जुलाई) को इतिहासकार सैयद इरफान हबीब, विख्यात स्कॉलर अबुसालेह शरीफ सामाजिक कार्यकर्ता फराह नकवी, रक्षंता जलील, पूर्व आईपीएस अधिकारी एमएम फारुखी इत्यादि वैसे लोगों से मुलाकात की थी जिनकी पहचान समाज में मुस्लिम बुद्धिजीवियों के तौर पर है। इस मुलाकात के जरिए राहुल गांधी ने बुद्धिजीवियों से यह जानने की कोशिश की कि मुस्लिम समुदाय किन परेशानियों का सामना कर रहा है।

राहुल को मिली थी नसीहत: इस मुलाकात के दौरान मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने राहुल गांधी से कहा था कि उन्हें समस्त देशवासियों से जुड़े मुद्दे उठाने चाहिए, सिर्फ मुसलमानों से जुड़े नहीं। राहुल गांधी ने इस मुलाकात में माना था कि कांग्रेस ने कुछ गलतियां गुजरे सालों में की हैं और वो इनसे सबक लेंगे। इन लोगों ने राहुल गांधी से कहा था कि उन्हें कांग्रेस की नीतियों, नौकरियों और उस डर के माहौल के बारे में बात करना चाहिए जिसमें लोग जी रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App