ताज़ा खबर
 

दिल्ली चुनाव में कूदी ‘अनजान आदमी पार्टी’, केजरीवाल के खिलाफ लड़ेंगे ‘चक दे इंडिया’ में शाहरुख का गोल रोकने वाले शैलेंद्र

अनजान आदमी पार्टी भी दो हजार से ज्यादा उन दलों में शुमार है, जो अपने नाम को लेकर सुर्खियों में है। इस पार्टी के कार्यकर्ता दिल्ली विधानसभा चुनाव में भी प्रचार करते नजर आए हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: January 21, 2020 3:40 PM
दिल्ली में प्रचार करते अनजान आदमी पार्टी के कार्यकर्ता (फोटो सोर्स: ट्विटर @supriya23bh)

दिल्ली विधानसभा चुनाव में जहां बीजेपी-कांग्रेस से आम आदमी पार्टी का मुकाबला सुर्खियों में है। वहीं एक ऐसी पार्टी भी मैदान में कूदी है जो अपने नाम को लेकर ही चर्चा में बनी हुई है। यह है अनजान आदमी पार्टी। रिपोर्ट्स के मुताबिक पार्टी ने अपने दो प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं। हालांकि सियासी गलियारों में यह नाम नया नहीं है। इससे पहले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव हो या लोकसभा चुनाव 2019, अनजान आदमी पार्टी पहले भी ताल ठोक चुकी है।

केजरीवाल के मुकाबले उतारा यह कैंडिडेटः जनसत्ता से फोन पर हुई बातचीत में पार्टी नेता उपेंद्र प्रसाद ने बताया, ‘पार्टी ने दो लोगों को टिकट दिया है। नई दिल्ली विधानसभा सीट से शैलेंद्र सिंह को अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मौका मिला है। शैलेंद्र शाहरुख खान की फिल्म चक दे इंडिया में हॉकी कोच की भूमिका निभा चुके हैं और खुद भी इंटरनेशनल हॉकी प्लेयर रहे हैं। 10 साल पहले दिल्ली में एक जलती बस से लोगों को बचाकर भी शैलेंद्र सुर्खियों में आए थे। वहीं बिजवासन विधानसभा सीट से पार्टी ने अनिल मलिक को टिकट दिया है।’

Hindi News Live Hindi Samachar 21 January 2020: देश की बड़ी खबरों के लिए यहांं क्लिक करें 

2015 में बनी थी अनजान आदमी पार्टीः देशभर में ऐसी लगभग 2300 राजनीतिक पार्टियां रजिस्टर्ड है। हालांकि सिर्फ 65 पार्टियां ही मान्यता प्राप्त हैं, जिन्में से महज 7 राष्ट्रीय पार्टियां हैं। अनजान आदमी पार्टी भी दो हजार से ज्यादा उन दलों में शुमार है, जो अपने नाम को लेकर सुर्खियों में है। इस पार्टी के कार्यकर्ता दिल्ली विधानसभा चुनाव में भी प्रचार करते नजर आए हैं। इस पार्टी का गठन 2015 में किया गया था।

केजरीवाल की वजह से आए, उन्हीं के खिलाफ लड़ेंगेः इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक पुराने इंटरव्यू में अनजान आदमी पार्टी के संस्थापक आशुतोष ने कहा था, ‘अनजान आदमी पार्टी का उदय अरविंद केजरीवाल की 49 दिन वाली सरकार की प्रेरणा से हुआ था। अरविंद केजरीवाल हमारी प्रेरणा है, हम उन्हीं की वजह से राजनीति में आए हैं और उनके ही खिलाफ लड़ेंगे।’ बता दें कि उपेंद्र 2011 में हुए अन्ना हजार के उसी भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन में शामिल थे, जिसमें अरविंद केजरीवाल भी थे। 2013 में उपेंद्र और उनकी टीम ने आम आदमी पार्टी के लिए डोर-टू-डोर कैंपेन भी किया था लेकिन उनका मानना है कि आप सरकार की नाकामी देख उनका मोहभंग हो गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पायलटों से बोले स्पाइसजेट ऑफिसर- फालतू मुद्दे छोड़िए और काम कीजिए, सैलरी नहीं देंगे तो हालत खराब हो जाएगी
2 Kerala State Lottery Today Results announced: लॉटरी के रिजल्‍ट जारी, यहां देखें अपडेट्स
3 CAA का ककहरा समझाने लखनऊ पहुंचे अमित शाह, बोले- राहुल, ममता जहां चाहें, मैं चर्चा के लिए तैयार; रटे वाक्य न बोलें अखिलेश
ये पढ़ा क्या?
X