ताज़ा खबर
 

दिल्लीः गार्गी कॉलेज छेड़खानी केस में 10 गिरफ्तार, ‘फेस्ट’ के दौरान नशे में हुड़दंगियों ने छात्राओं से की थी बदतमीजी

पुलिस ने बताया कि मामले की जांच करने और संदिग्धों की पहचान करने के लिए पुलिस की 11 से ज्यादा टीमें उपलब्ध तकनीकी ब्योरों का विश्लेषण कर रही हैं और एनसीआर में जगह-जगह तलाशी ले रही हैं। उन्होंने बताया कि कई लोगों से पूछताछ की जा रही है और विभिन्न संदिग्धों की पहचान की गई है। दिल्ली पुलिस ने इस घटना के सिलसिले में 10 फरवरी को प्राथमिकी दर्ज की थी।

Updated: February 12, 2020 11:02 PM
दिल्ली पुलिस ने इस घटना के सिलसिले में 10 फरवरी को प्राथमिकी दर्ज की थी। गार्गी कॉलेज में छह फरवरी को आयोजित ‘रेविएरा’ फेस्ट में पुरुषों का एक समूह घुस आया और छात्राओं के साथ बदसलूकी की।

दिल्ली विश्वविद्यालय के गार्गी कॉलेज में ‘फेस्ट’ के दौरान छह फरवरी को छात्राओं के साथ हुई कथित छेड़खानी के मामले में बुधवार को 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने बताया कि मामले की जांच करने और संदिग्धों की पहचान करने के लिए पुलिस की 11 से ज्यादा टीमें उपलब्ध तकनीकी ब्योरों का विश्लेषण कर रही हैं और एनसीआर में जगह-जगह तलाशी ले रही हैं। उन्होंने बताया कि कई लोगों से पूछताछ की जा रही है और विभिन्न संदिग्धों की पहचान की गई है। दिल्ली पुलिस ने इस घटना के सिलसिले में 10 फरवरी को प्राथमिकी दर्ज की थी। गार्गी कॉलेज में छह फरवरी को आयोजित ‘रेविएरा’ फेस्ट में पुरुषों का एक समूह घुस आया और छात्राओं के साथ बदसलूकी की।

उच्चतम न्यायालय में बुधवार को एक याचिका दायर कर दिल्ली विश्वविद्यालय के गार्गी कॉलेज के भीतर एक कार्यक्रम के दौरान पुरूषों के एक समूह द्वारा छात्राओं से की गई छेड़खानी के मामले की जांच शीर्ष अदालत की निगरानी में सीबीआई से कराने की मांग की गई है। एम. एल. शर्मा की ओर से दायर जनहित याचिका में अनुरोध किया गया है कि वह जांच एजेंसी को सभी वीडियो रिकॉर्डिंग और कॉलेज के आसपास के सभी सीसीटीवी कैमरों के फुटेज जब्त करने का निर्देश दे।

उसमें अनुरोध किया गया है कि शीर्ष अदालत ‘‘सुनियोजित आपराधिक साजिश’’ के पीछे जिम्मेदार लोगों को गिरफ्तार करने का निर्देश दे।
कॉलेज की कुछ छात्राओं ने छह फरवरी को ‘कॉलेज फेस्ट’ में हुई इस घटना का जिक्र इंस्टाग्राम पर किया जिसके बाद पूरी घटना सामने आयी। छात्राओं ने आरोप लगाया कि कॉलेज परिसर में घुस आए पुरुषों का एक समूह छेड़खानी कर रहा था और गुहार लगाने के बावजूद सुरक्षा र्किमयों ने लड़कियों की मदद नहीं की।

बता दें कि दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) ने बीते सप्ताह गार्गी कॉलेज में सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान छात्राओं से साथ हुई कथित छेड़छाड़ को लेकर सभी प्राचार्यों को परामर्श जारी कर छात्राओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है। विश्वविद्यालय ने 10 फरवरी को जारी परामर्श में कॉलेजों को दो सप्ताह के भीतर छात्राओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये उठाए गए कदमों की जानकारी देने के लिये भी कहा है। डीयू ने गार्गी कॉलेज में हुई घटना की दा करते हुए पुलिस से इस घटना में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का अनुरोध किया है। परामर्श में कहा गया है कि डीयू ने कॉलेज की प्राचार्य से इस मामले में की गई कार्रवाई पर रिपोर्ट भी मांगी है।

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X