ताज़ा खबर
 

कोरोना वैक्सीन की पहली खेप ले पुणे से दिल्ली पहुंचा विमान, सीरम इंस्टिट्यूट ने 34 बॉक्स में भेजी ‘कोविड की काट’

16 जनवरी से टीकाकरण के प्रधानमंत्री मोदी के ऐलान के बाद 'कोविशील्ड' वैक्सीन की पहली खेप मंगलवार को दिल्ली पहुंच गई है। 34 बॉक्स में कोरोना की वैक्सीन पुणे एयरपोर्ट से दिल्ली स्पाइसजेट के विमान से लाई गई।

corona vaccine, siiसीरम इंस्टिट्यूट ने भेजी कोरोना वैक्सीन की पहली खेप। (फोटो सोर्स- ट्विटर हैंडल ANI)

16 जनवरी से टीकाकरण के प्रधानमंत्री मोदी के ऐलान के बाद ‘कोविशील्ड’ वैक्सीन की पहली खेप मंगलवार को दिल्ली पहुंच गई है। 34 बॉक्स में कोरोना की वैक्सीन पुणे एयरपोर्ट से दिल्ली स्पाइसजेट के विमान से लाई गई। टीकों को ले जाने के काम से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि तापमान नियंत्रित तीन ट्रक इन टीकों को लेकर तड़के पांच बजे से कुछ समय पहले पुणे हवाई अड्डे जाने के लिए ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ से रवाना हुए। पुणे हवाईअड्डे से इन टीकों को हवाई मार्ग के जरिए भारत के अन्य हिस्सों में पहुंचाया जाएगा।टीकों को इंस्टीट्यूट से रवाना करने से पहले एक पूजा भी की गई थी।

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक SII से रवाना ट्रकों में वैक्सीन के 478 बॉक्स थे और प्रत्येक का वज़न 32 किलो था। पुणे एयरपोर्ट से देश के कई हिस्सों में वैक्सीन भेजी जा चुकी है। 13 शहरों के लिए वैक्सीन को रवाना किया गया है। पुणे एयरपोर्ट ने एक ट्वीट में कहा, ‘तैयार हो जाइए! भारत के साथ खड़े रहिए! पूरे देश में बीमारी को खत्म करने के लिए वैक्सीन को लोड किया जा रहा है।’

समाचार एजेंसी के मुताबिक वैक्सीन को 8 कमर्शन फ्लाइट के जरिए भेजा गया है। इसमें कार्गो फ्लाइट भी शामिल हैं। इन शहरों में विजयवाड़ा. हैदराबाद, कोलकाता, भुवनेश्वर और गुवाहाटी शामिल हैं। मुंबई के लिए वैक्सीन की खेप बाइ रोड भेजी जाएगी। सरकार ने 1.01 करोड़ कोरोना वैक्सी की डोज का ऑर्डर किया है।

 

हिंदुस्तान लाइफकेयर लिमिटेड (HLL) एक केंद्र सरकार का एंटरप्राइज है जो कि सीरम इंस्टिट्यूट और भारत बायोटेक से वैक्सीन खरीदेगा। इसी महीने ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया ने ऑक्सफर्ड और ऐस्ट्राजेनेका की वैक्सीन और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को आपातकाल मंजूरी दी है। ये दोनों ही दो डोज वाली वैक्सीन हैं जिन्हें 28 दिन के अंतर पर दिया जाना है। 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान शुरू हो जाएगा। वैक्सिनेशन में हेल्थ वर्कर और फ्रंट लाइन वर्कर को प्राथमिकता दी जा रही है। इसमें पुलिस, सिविल डिफेंस के कर्मचारी, सफाई कर्मचारी शामिल हैं। इसके बाद 50 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी।

Next Stories
1 ‘गौ-विज्ञान परीक्षा’ से पहले ‘रेफरेंस मटीरियल’ वायरल! Rashtriya Kamdhenu Aayog की साइट से डॉक्यूमेंट गायब
2 कृषि बिल पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को केंद्र ने बताया कठोर, जज ने कहा- इससे ज़्यादा अहितकर सच हम कह नहीं सकते थे
3 किसान आंदोलन मामले में शीर्ष अदालत की सरकार को फटकार, कानूनों पर अमल टाले केंद्र नहीं तो हम लगाएंगे रोक
आज का राशिफल
X