ताज़ा खबर
 

कोरोना वैक्सीन में देरी का डर: सीरम इंस्टिट्यूट ने छिपाई पार्टनर के ट्रायल में गड़बड़ी की बात, सरकार ने पूछा- क्यों न रोक दें आपका भी ट्रायल

भारत के औषधि महानियंत्रक डॉक्टर वी. जी. सोमानी ने कारण बताओ नोटिस में सीरम इंस्टीट्यूट से पूछा है कि मरीजों की सुरक्षा की गारंटी होने तक, देश में टीके के दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण के लिए दी गयी अनुमति को निलंबित क्यों ना किया जाए।

Serum institue, DCGI, oxford vaccine, uk vaccine trail,सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारत समेत दुनियाभर में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले के बीच कोरोना वैक्सीन आने में देर हो सकती है। ब्रिटेन में वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल को रोक दिया गया है। इसके पीछे ट्रायल में शामिल हुए व्यक्ति को बीमार होना बताया जा रहा है।

केन्द्रीय औषधि नियामक ने फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका द्वारा ऑक्सफोर्ड कोविड-19 टीके का अन्य देशों में क्लिनिकल ट्रायल बंद किए जाने और टीके के ‘‘गंभीर प्रतिकूल प्रभावों की खबरों’’ के संबंध में सूचना नहीं देने को लेकर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भारत के औषधि महानियंत्रक डॉक्टर वी. जी. सोमानी ने कारण बताओ नोटिस में सीरम इंस्टीट्यूट से पूछा है कि मरीजों की सुरक्षा की गारंटी होने तक, देश में टीके के दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण के लिए दी गयी अनुमति को निलंबित क्यों ना किया जाए।

नोटिस के अनुसार, ‘‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने केन्द्रीय लाइसेंसी प्राधिकार को अभी तक एस्ट्राजेनेका द्वारा अन्य देशों में टीके का ट्रायल सस्पेंड किए जाने की सूचना नहीं दी है और मरीजों पर इसके प्रतिकूल प्रभाव के संबंध में कोई रिपोर्ट भी नहीं सौंपी है।’’ नोटिस में नयी औषधि और नैदानिक परीक्षण नियम, 2019 के प्रावधान 30 के तहत सीरम इंस्टीट्यूट से पूछा गया है कि दो अगस्त को दी गयी परीक्षण की मंजूरी को मरीजों की सुरक्षा तय होने तक स्थगित क्यों ना कर दिया जाए।

डीजीसीआई ने तत्काल जवाब तलब करते हुए कहा, ‘‘जवाब नहीं मिलने पर यह माना जाएगा कि आपके पास कहने को कुछ भी नहीं है और फिर आपके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।’’ कारण बताओ नोटिस में नियामक ने यह भी कहा है कि जिन भी देशों में नैदानिक परीक्षण चल रहा था, उन्हें रोक दिया गया है।

टीके का परीक्षण अमेरिका, ब्रिटेन, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका में भी चल रहा था। डीसीजीआई द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस के संबंध में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने एक बयान में कहा है, ‘‘हम डीसीजीआई के निर्देशानुसार काम कर रहे हैं और अभी तक हमसे परीक्षण रोकने को नहीं कहा गया है। अगर डीसीजीआई को कोई सुरक्षा संबंधी चिंता है तो हम उनके निर्देशों का अनुसरण करेंगे और मानक प्रक्रिया का पालन करेंगे।’

इससे पहले सीरम इंस्टीट्यूट ने बुधवार को दिन में कहा था कि वह भारत में ट्रायल जारी रखेगी। एस्ट्राजेनेका द्वारा ब्रिटेन में ट्रायल रोके जाने के संबंध में सीरम इंस्टीट्यूट ने अपने बयान में कहा, ‘‘हमें ब्रिटेन में हो रहे ट्रायलों पर ज्यादा टिप्पणी नहीं कर सकते हैं, लेकिन उन्हें समीक्षा के लिए फिलहाल रोक दिया गया है और आशा है कि वह जल्दी शुरू होंगे।’’ बयान में कहा गया है, ‘‘जहां तक बात भारत में परीक्षण की है, यह जारी है और हमें अभी तक कोई दिक्कत नहीं आई है।’’ (भाषा इनपुट के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पानी की बौछारों से सलामी और हैरान कर देने वाले हवाई कतरब दिखा IAF में शामिल हुआ राफेल
2 अमेरिकी चुनाव में पार्टी का नाम आने पर भाजपा सख्त, सदस्यों को चेताया- ट्रंप या बाइडेन के प्रचार में ना करें पार्टी नाम का प्रयोग
3 India-China Border News HIGHLIGHTS: चीन सीमा विवाद कम करने के लिए “उचित कदम” उठाने के लिए तैयार
राशिफल
X