ताज़ा खबर
 

मॉब लिंचिंग पर डिबेट में वरिष्ठ पत्रकार ने LJP प्रवक्ता को हड़काया- डॉन्ट बिहैव लाइक डिक्टेटर वर्ना…

बहस के दौरान वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने एलजेपी प्रवक्ता को जमकर हड़काया। पत्रकार ने इस दौरान प्रवक्ता से डॉन्ट बिहैव लाइक डिक्टेटर (तानशाह की तरह बर्ताव न करें) कह डाला।

Author नई दिल्ली | July 19, 2019 10:09 PM
डिबेट के दौरान वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश (दाएं) और एलजेपी प्रवक्ता अरविंद वाजपेयी (बीच में)। फोटो: Video Grab Image

बिहार के सारन जिले के एक गांव में शुक्रवार तड़के भीड़ ने तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी। पुलिस ने बताया कि भीड़ ने इन तीनों को मवेशियों की कथित तौर पर चोरी करते हुए पकड़ा था। यह घटना बनियापुर थाना क्षेत्र की है। तीनों शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिए गए थे। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। देश के अलग-अलग इलाकों में मॉब लिंचिंग की घटनाओं ने देशावासियों को झकझोर कर रख दिया है। क्या इस पर केंद्र सरकार को कड़ा कानून बनाना चाहिए? इसी विषय पर मॉब लिंचिंग को कैसा रोका जाए इस पर आज तक के लाइव डिबेट कार्यक्रम में जमकर बहस हुई। बहस के दौरान वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने एलजेपी प्रवक्ता को जमकर हड़काया। पत्रकार ने इस दौरान प्रवक्ता से डॉन्ट बिहैव लाइक डिक्टेटर (तानशाह की तरह बर्ताव न करें) कह डाला।

दरअसल बहस की शुरुआत में एलजेपी प्रवक्ता अरविंद वाजपेयी ने कहा ‘मॉब लिंचिंग के खिलाफ राष्ट्रीय कानून किसी भी वक्त बन सकता है। डिबेट में शामिल होने से पहले कानून मंत्रालय से मैं इस बारे में जानकारी लेकर आया हूं। लेकिन मैं यहां ये भी कहना चाहता हूं कि कानून जब भी आए लेकिन सुप्रीम कोर्ट पहले ही ऐसे मामलों को रोकने के लिए गाइड लाइन सेट कर चुकी है। मोदी सरकार इन गाइड लाइन को बकायदा फॉली भी कर रही है। लेकिन ऐसे मामलों को धर्म और राजनीति से जोड़ना ये बहुत गलत है। मॉब लिंचिंग के मामले सदियों से चले आ रहे हैं। लेकिन ऐसा कहने से हमारा पीछा नहीं छूटेगा। पर हम इसे रोकने के लिए प्रतिबद्ध है। हालांकि मर्डर का कानून पहले से ही है लेकिन विशेष तौर पर मॉब लिंचिंग का कानून नहीं है जिस पर सरकार काम कर रही है। दक्षिण अफ्रीका और अमेरिका जैसे देशों में भी है। यह समाज का हिस्सा है।’

इसपर शो की एंकर अंजना ओम कश्यप उर्मिलेश से पूछती हैं क्या यह समाज का हिस्सा है? एंकर के इतना पूछते ही उर्मिलेश कहते हैं ‘मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा कि एलजेपी प्रवक्ता ने क्या कहा। लेकिम मैं इतना जरूर कहूंगा कि ये जो घटनाएं हो रही हैं इन्हें कानून बनाकर भी नहीं रोका जा सकता। रही बात सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन की तो उन्होंने अपना काम किया। मॉब लिंचिंग तब तक नहीं रुकेगी जब तक सरकार लोगों का मिजाज नहीं बदलेगी। और मिजाज बदलने के लिए आपको (सरकार) अपनी राजनीति बदलनी पड़ेगी। अगर सत्ताधारी दल और उनको समर्थन देने वाले तमाम संगठन हिंदू-मुस्लमान करते रहेंगे तो कानून बनाकर भी कुछ नहीं होने वाला। यह बात भी गौर करने वाली है कि मॉब लिंचिंग में कभी कोई अमीर व्यक्ति नहीं मारा जाता। शासन करने वाली ताकतें शासन करने पर ध्यान नहीं दे रही हैं। सरकार सिर्फ इस पर ध्यान दे रही है कि चुनाव कैसे जीता जाए। कॉर्पोरेट के लिए कैसे काम किया जाए।’

वरिष्ठ पत्रकार के इतना कहते ही एलजेपी प्रवक्ता अरविंद वाजपेयी आगबबूला हो गए और उन्हें बीच में टोकते हुए कहा ‘ये क्राइम की घटना है इसलिए इसे आप राजनीति से नहीं जोड़ सकते। आप इसे सरकार से नहीं जोड़ सकते।’ इतना कहते ही एलजेपी प्रवक्ता उंची आवाज में बात करने लगे तो उर्मिलेश ने कहा कि उंची आवाज में बात मत करिए क्योंकि मेरी भी आवाज बहुत उंची है। मैं आपकी सरकार की बात नहीं कर रहा हूं। क्या आप मुझे सरकार पर बोलने नहीं देंगे। क्या आप डिक्टेटर हैं। डॉन्ट बिहैव लाइक डिक्टेटर वर्ना में किसी को बोलने नहीं दूंगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App