ताज़ा खबर
 

आनन-फानन में कांग्रेस ने बुलाई आपात बैठक, खड़गे, चिदंबरम समेत पार्टी दफ्तर पहुंचे दर्जनभर बड़े नेता

इस मीटिंग में मल्लिकार्जुन खड़गे, पूर्व वित्त मंत्री रह चुके पी चिदंबरम समेत बड़े नेता पार्टी दफ्तर पहुंच रहे हैं। बताया जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष के लिए संभावित नामों पर चर्चा के साथ-साथ कर्नाटक संकट पर इस बैठक में चर्च की जाएगी।

कांग्रेस के बड़े नेताओं के साथ दिल्ली में बैठक हो रही है।(फाइल फोटो)

राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद जहां कांग्रेस में नए अध्यक्ष को लेकर उहापोह का स्थिति है, वहीं कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन की सरकार पर संकट आ खड़ा हुआ है। ऐसे में कांग्रेस ने आनन फानन में एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई। कांग्रेस के वॉर रूम में एक टॉप लेवल मीटिंग में पार्टी के दर्जनभर वरिष्ठ नेता पहुंचे हैं। इस मीटिंग में मल्लिकार्जुन खड़गे, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम, गुलामनबी आजाद, मोतीलाल वोरा भी मौजूद हैं। बताया जा रहा है  कि कांग्रेस अध्यक्ष के लिए संभावित नामों पर चर्चा के साथ-साथ कर्नाटक संकट पर भी इस बैठक में चर्चा की  गई।

बैठक के बाद कांग्रेस के नेता  रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि  लोकतंत्र को बाजार बनाकर खरीद फरोख्त से  सत्ता और धनबल से चुनी हुई प्रजातांत्रिक सरकारों  को बीजेपी गिराने की कोशिश कर रही है, इसका ताजा उदाहरण कर्नाटक है।उन्होंंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि  देश में खरीदफरोख्त की राजनीति का नया सिंबल MODI (Mischievously Orchestrated Defections in India) उभर कर सामने आया है। इसके अलावा कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि कर्नाटक में जो विधायक कांग्रेस छोड़ने का मन बना रहे हैं वो कांग्रेस से लंबे समय से जुड़े हुए हैं और हमे विश्वास है कि वो पार्टी के साथ जुड़े रहेंगे और पार्टी का समर्थन करेंगे। मैं बैंगलोर जा रहा हूं वहां की जमीनी हकीकत देखकर ही आगे कह  कुछ कहूंगा।

 

कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन के 14 विधायकों द्वारा विधानसभा अध्यक्ष को अपना इस्तीफा सौंपने से राज्य में 13 माह पुरानी मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली सरकार खतरे में पड़ गई है। यदि इन विधायकों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया जाता है तो सत्तारूढ़ गठबंधन 224 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत खो देगा क्योंकि गठबंधन के विधायकों की संख्या घट कर 104 हो जाएगी। वहीं, भाजपा के 105 विधायक हैं।

हालांकि जेडीएस कहा कहना है कि उनकी सरकार स्थिर है। उसे कोई खतरा नहीं है। लेकिन इस बीच केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने कहा कि अगर राज्यपाल हमको सरकार बनाने के लिए बुलाते हैं तो हम तैयार हैं। उधर कर्नाटक सरकार में मंत्री डीके शिवकुमार विधायकों को मनाने में जुटे हुए हैं।गौरतलब है कि कांग्रेस-जेडीएस विधायकों का इस्तीफा ऐसे वक्त पर आया है, जब सीएम एचडी कुमारस्वामी अमेरिका में हैं। इस बीच येदियुरप्पा ने कहा कि उनकी पार्टी का इस मामले कोई लेना-देना नहीं है।

Next Stories
1 फेसबुक पोस्ट में अरुण जेटली ने बताया- ‘अच्छा अर्थशास्त्र’ और ‘चतुर राजनीति’ में क्या चुनना चाहिए
2 जब धीरूभाई अंबानी ने अरब के शेख को एक्सपोर्ट की भारत की मिट्टी, पढ़िए दिलचस्प किस्सा
3 ओवैसी की चुनौती- इस नेता को नहीं हरा सकता बीजेपी का हिंदुत्व, मोदी दो मंदिर जाएंगे तो यह छह का करेंगे दौरा
ये पढ़ा क्या?
X