ताज़ा खबर
 

राजद्रोह केस में दिल्ली सरकार के कदम पर कन्हैया कुमार ने कहा- ‘धन्यवाद’, उमर खालिद बोले- अब दूध का दूध और पानी का पानी होगा

पुलिस ने 2016 के इस मामले में कुमार के साथ ही जेएनयू के पूर्व छात्रों उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य के खिलाफ आरोप-पत्र दाखिल किया था।

पुलिस ने कहा था कि आरोपियों ने नौ फरवरी, 2016 को जेएनयू परिसर में एक कार्यक्रम के दौरान जुलूस निकाला और वहां कथित रूप से लगाये गये देश-विरोधी नारों का समर्थन किया था। (फाइल फोटोः एजेंसी)

दिल्ली सरकार ने राजद्रोह केस में CPI नेता और पूर्व JNU छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार समेत तीन लोगों के खिलाफ पुलिस को मुकदमा चलाने की मंजूरी दे दी है। शुक्रवार को इसी पर कन्हैया ने दिल्ली सरकार को शुक्रिया अदा किया और कहा कि यह मामला गंभीरता से लिया जाए। आगे उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि इस केसे में त्वरित ऐक्शन की आवश्यक्ता है।

समाचार एजेंसी ANI को उन्होंने बताया- पहली बार चार्जशीट तब दायर हुई थी, जब मैं चुनाव लड़ने वाला था और अब बिहार में फिर से चुनाव होने वाले हैं। वहां एनडीए सरकार (जेडीयू और बीजेपी के गठबंधन की) है। राज्य सरकार ने हाल ही में विधानसभा में NRC-NPR के खिलाफ प्रस्ताव भी पास किया है। मतलब साफ है कि यह चीज मुद्दा बनाई गई और राजनीतिक फायदे के लिए इसमें देरी की गई।

उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट्स में कहा, “देशद्रोह केस में फास्ट ट्रैक कोर्ट और त्वरित कार्रवाई की जरूरत इसलिए है, ताकि देश को पता चल सके कि कैसे इस कानून का दुरुपयोग इस पूरे मामले में राजनीतिक लाभ और लोगों को उनके बुनियादी मसलों से भटकाने के लिए किया गया है।”

बकौल पूर्व JNU छात्र, “दिल्ली सरकार को इस केस की अनुमति देने के लिए धन्यवाद। दिल्ली पुलिस और सरकारी वकीलों से आग्रह है कि इस केस को अब गंभीरता से लिया जाए। फास्ट ट्रैक कोर्ट में स्पीडी ट्रायल हो और TV वाली ‘आपकी अदालत’ की जगह कानून की अदालत में न्याय सुनिश्चित किया जाए। सत्यमेव जयते।”

इसी बीच, उनके साथी उमर खालिद ने भी माइक्रो ब्लॉगिंग साइट पर अपना और मामले में तीसरे आरोपित अनिर्बन का संयुक्त बयान जारी किया। उन्होंने लिखा- हमारे खिलाफ दिल्ली सरकार के इस कदम से हम बिल्कुल भी परेशान नहीं होने वाले हैं। हमें मालूम है कि हम निर्दोष हैं और हमें न्यायपालिका में पूरा यकीन है।

उनके मुताबिक, “हमारे खिलाफ किया गया मीडिया ट्रायल साबित करेगा कि यह झूठा और राजनीति से प्रेरित है। हम लंबे समय से इन फर्जी आरोपों कों झेल रहे हैं। आखिरकार, सब दूध का दूध और पानी का पानी होगा!”

उन्होंने आखिरी ट्वीट लिखा, “हम कोर्ट में अपना बचाव करेंगे और सत्तारूढ़ दल के हर किस्म के फरेब और उसके राष्ट्रवादी होने के पोले दावों को भी बेनकाब करेंगे।”

बता दें कि शुक्रवार को दिल्ली में सीएम अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली AAP सरकार ने राजद्रोह के एक मामले में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और दो अन्य लोगों पर मुकदमा चलाने के लिए दिल्ली पुलिस को मंजूरी दे
दी।

पुलिस ने 2016 के इस मामले में कुमार के साथ ही जेएनयू के पूर्व छात्रों उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य के खिलाफ आरोप-पत्र दाखिल किया था। पुलिस ने कहा था कि आरोपियों ने नौ फरवरी, 2016 को जेएनयू परिसर में एक कार्यक्रम के दौरान जुलूस निकाला और वहां कथित रूप से लगाये गये देश-विरोधी नारों का समर्थन किया था। (भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 Video: पूर्व IAS ने कहा- BJP और अन्य पार्टियों में एक बूंद का फर्क नहीं है, बिफरे भाजपा नेता, बोले-आइए आप कोर्ट चलिए
2 पटनायक की लंच पार्टी में जब आमने-सामने बैठे अमित शाह और ममता बनर्जी, लिया उड़िया व्यंजनों का स्वाद
3 7th Pay Commission: इस राज्य के कर्मचारियों को मिली खुशखबरी! सरकार ने 5% बढ़ाया महंगाई भत्ता
ये पढ़ा क्या?
X