scorecardresearch

कोरोना टीका लाखों और लोगों को लगने का रास्‍ता साफ, यूके में दूसरी वैक्सीन को मंजूरी, लगवाने वालों में द‍िखे ये साइड इफेक्‍ट्स

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित और एस्ट्राजेनेका द्वारा उत्पादित कोविड-19 टीके को बुधवार (30 दिसंबर, 2020) को ब्रिटेन के स्वतंत्र नियामक ने इंसानों आपात इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी।

covid-19 vaccine india news
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (पीटीआई फोटो)

कोविड-19 टीके को लेकर अच्छी खबर है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित और एस्ट्राजेनेका द्वारा उत्पादित कोविड-19 टीके को बुधवार (30 दिसंबर, 2020) को ब्रिटेन के स्वतंत्र नियामक ने इंसानों आपात इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी। औषधि एवं स्वास्थ्य देखभाल उत्पाद नियामक एजेंसी (एमएचआरए) की मंजूरी मिलने का अभिप्राय है कि टीका सुरक्षित और प्रभावी है। टीके को मंजूरी मिलने से लाखों और लोगों को इसका टीका मिलने का रास्ता साफ हो गया है। इससे भारत में भी और अधिक लोगों को टीके की खुराक मिल सकेगी।

दरअसल टीके का निर्माण करने के लिए ऑक्सफोर्ड ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के साथ भी करार किया है और इसका मूल्यांकन एमएचआरए ने सरकार को गत सोमवार को जमा अंतिम आंकड़ों के आधार पर किया है। सूत्रों ने बताया कि SII की तरफ से सबमिट किया गया अपडेटेड डेटा ‘संतोषजनक’ है। अब ब्रिटेन इसकी मंजूरी मिलने के बाद भारत में भी इसे अप्रूवल दिए जाने का रास्ता साफ हो गया है। बता दें कि यह मंजूरी ऐसे समय दी गई है जब वरिष्ठ ब्रिटिश वैज्ञानिक ने रेखांकित किया है कि ऑक्सफोर्ड का टीका वास्तव में स्थिति बदलने वाला है जिससे साल 2021 की गर्मियों तक वायरस के खिलाफ टीकाकरण कर देश सामुदायिक स्तर पर बीमारी के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता प्राप्त कर सकता है।

श्वास रोग विशेषज्ञ और सरकार की आपात व्यवस्था को लेकर गठित वैज्ञानिक सलाहकार समूह के सदस्य प्रोफेसर कालम सेम्पल ने कहा, ‘टीका लेने वाले व्यक्ति कुछ हफ्तों में वायरस से सुरक्षित हो जााएंगे और यह बहुत महत्वपूर्ण है।’ एस्ट्राजेनेका के प्रमुख पास्कल सोरियट ने जोर देकर कहा है कि अनुसंधानकर्ताओं ने अंतिम नतीजों को प्रकाशित करने से पहले टीके की दो खुराक का इस्तेमाल कर ‘कारगर फार्मूला’ हासिल किया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि वायरस पूर्व के अनुमानों से अधिक प्रभावी होगा और इसके कोरोना वायरस के नए प्रकार पर भी प्रभावी होना चाहिए जिसकी वजह से ब्रिटेन के अधिकतर हिस्सों में भय की स्थिति है।

दूसरी तरफ टीका लगवाने वाले कुछ लोगों में साइड इफेक्ट्स दिखे हैं। इनमें से एक अमेरिकी डॉक्टर एंथोनी फौसी ने बताया कि पिछले सप्ताह मोडरना टीका लगवाने के बाद उन्होंने कुछ साइड इफेक्ट्स का अनुभव किया। उन्होंने सीएनएन को बताया कि टीका लगवाने के कुछ घंटे बाद मुझे बांह में थोड़ा दर्द महसूस हुआ। ऐसा शायद एक दिन तक रहा, हालांकि इसके बाद ये खत्म हो गया। मगर इसके अलावा मुझे कोई बड़ी परेशानी महसूस नहीं हुई ह। हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया इन साइड इफेक्ट्स को लेकर अधिक चिंता करने की जरुरत नहीं।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X