ताज़ा खबर
 

स्कॉर्पियन पनडुब्‍बी: फ्रेंच नेवी के पूर्व अफसर पर डेटा चुराने का शक, कंपनी ने कहा- लीक भारत की तरफ से हुई हाेगी

द आॅस्ट्रेलियन को बताया गया कि भारत के लिए स्कॉर्पियन का डेटा वर्ष 2011 में फ्रांस में लिखा गया था।

Author नई दिल्ली | Published on: August 24, 2016 8:27 PM
INS Kalvari (Source: Indian Navy)

भारत की स्कॉर्पियन पनडुब्बियों की तकनीकी एवं रडार से बचने की क्षमताओं से जुड़ी विस्तृत जानकारी वाले संवेदनशील दस्तावेज लीक हो गए हैं। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने इस मामले में नौसेना प्रमुख से रिपोर्ट मांगी है। इन स्कॉर्पियन पनडुब्बियों का डिजाइन फ्रांसीसी पोत निर्माता डीसीएनएस ने तैयार किया है। आॅस्ट्रेलिया के ‘द आॅस्ट्रेलियन’ अखबार के अनुसार, डीसीएनएस का कुल 22,400 पन्नों का जो डाटा लीक हुआ है, उसमें भारत की छह नई पनडुब्बियों की रडार से बच निकलने की गोपनीय क्षमता की जानकारी है। इसमें उन आवृत्तियों का भी जिक्र है, जिन पर ये खुफिया जानकारी जुटाती हैं। इसके अलावा इस डाटा में यह भी दर्ज है कि ये पनडुब्बियां गति के विभिन्न स्तरों पर कितना शोर करती हैं और किस गहराई तक गोता लगा सकती हैं और इनकी रेंज और मजबूती कितनी है। ये सभी संवेदनशील और बेहद गोपनीय जानकारी हैं। इसमें कहा गया कि ये आंकड़े पनडुब्बी के चालक दल को यह बताते हैं कि नौका पर वे किस स्थान पर जाकर दुश्मन की नजर से बचते हुए सुरक्षित तरीके से बात कर सकते हैं? आंकड़े चुंबकीय, विद्युत चुंबकीय और इन्फ्रारेड डाटा का भी खुलासा करते हैं।इसके साथ ही ये पनडुब्बी के तारपीडो प्रक्षेपण तंत्र और युद्धक तंत्र की विशिष्ट जानकारी भी देते हैं।

नौसेना ने कहा, ‘‘उपलब्ध जानकारी की जांच रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय पर की जा रही है और संबंधित विशेषज्ञों द्वारा विश्लेषण किया जा रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि लीक का स्रोत विदेश में है न कि भारत में।’’ आॅस्ट्रेलियाई मीडिया की खबर के अनुसार, इस लीक के बाद आॅस्ट्रेलिया में उसकी अपनी नौसेना के भावी बेड़े से जुड़ी बेहद गोपनीय जानकारी की सुरक्षा को लेकर डर पैदा हो गया है। क्योंकि फ्रांसीसी कंपनी ने आॅस्ट्रेलिया की पनडुब्बियों के बेड़े को डिजाइन करने की 50 अरब आॅस्ट्रेलियाई डॉलर की निविदा में जीत हासिल की है। आॅस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैलकॉम टर्नबुल ने कहा कि यह बात ध्यान देने योग्य है कि डीसीएनएस जो पनडुब्बी भारत के लिए बना रही थी, वह उस मॉडल से पूरी तरह अलग है, जो वह आॅस्ट्रेलिया के लिए बनाएगी। जो जानकारी लीक की गई, वह कई साल पुरानी है। उनके हवाले से कहा गया, ‘‘फिर भी, कोई भी गोपनीय जानकारी लीक होना चिंता का विषय है।’’

READ ALSO: इस कंपनी का फोन खरीदने वालों को फ्री मिलेगा जियो का 4G सिम, 90 दिन तक फ्री कॉलिंग, डेटा

द आॅस्ट्रेलियन की खबर के अनुसार, डीसीएनएस ने कल आॅस्ट्रेलिया को एकबार फिर यह आश्वासन देने की कोशिश की कि भारतीय स्कॉर्पियन पनडुब्बी के बारे में जो जानकारी लीक हुई है, ऐसा आॅस्ट्रेलिया के लिए प्रस्तावित पनडुब्बी के साथ नहीं होगा। कंपनी ने यह भी कहा कि यह लीक संभवत: फ्रांस नहीं बल्कि भारत की ओर से हुई होगी। कंपनी ने कहा, ‘‘आॅस्ट्रेलियाई व्यवस्था में तकनीकी जानकारी का अनियंत्रित होना संभव नहीं है।’’ उसने कहा, ‘‘जानकारी तक अनाधिकृत पहुंच को रोकने के लिए डीसीएनएस के बीच कई और स्वतंत्र नियंत्रण व्यवस्थाएं हैं। हर डेटा का लेन-देन कूट भाषा में है और यह रिकॉर्ड रहता है। भारत के मामले में, डीसीएनएस डिजाइन का निर्माण एक स्थानीय कंपनी ने किया है। डीसीएनएस प्रदाता है लेकिन तकनीकी जानकारी का नियंत्रक नहीं है।’’

READ ALSO: बलूच नेताओं को बचाने के लिए सेना भेजेेंगे PM मोदी या फिर पाक की निंदा कर भाषण देंगेः शिवसेना

द आॅस्ट्रेलियन को बताया गया कि भारत के लिए स्कॉर्पियन का डेटा वर्ष 2011 में फ्रांस में लिखा गया था। ऐसा संदेह है कि फ्रांस में उसी साल इसे फ्रांसीसी नौसेना के एक पूर्व अधिकारी ने निकाल लिया था। यह अधिकारी उस समय डीसीएनएस का सबकॉन्ट्रैक्टर था। उसने कहा, ‘‘ऐसा माना जा रहा है कि उसके बाद डेटा को दक्षिणपूर्वी एशिया की कंपनी में ले जाया गया। शायद एक क्षेत्रीय नौसेना की व्यावसायिक शाखा की मदद के लिए ऐसा किया गया। इसके बाद इसे एक तीसरे पक्ष द्वारा क्षेत्र की किसी दूसरी कंपनी को दे दिया गया। इसे बाद में आॅस्ट्रेलिया की एक कंपनी को मेल के जरिए डाटा डिस्क पर भेज दिया गया।’’

READ ALSO: इस एयरलाइंस ने दिया किश्‍तों में किराया चुकाने का ऑप्‍शन, 13 शहरों से फ्लाइट्स में मिलेगी सुविधा

कंपनी ने कहा, ‘‘यह बात स्पष्ट नहीं है कि एशिया में यह डेटा किस हद तक साझा किया गया है और क्या इसे विदेशी खुफिया एजेंसियों ने हासिल किया है?’’ हालांकि कुछ दस्तावेजों पर 2013 की तारीख है। द आॅस्ट्रेलियन द्वारा जुटाए गए डेटा में डीसीएनएस की कुछ अलग गोपनीय फाइलें भी हैं, जो चिली को फ्रांसीसी पोत बेचने की योजना और रूस को मिस्ट्रल श्रेणी के पोत बेचने के बारे में हैं। डीसीएनएस की इन परियोजनाओं का भारत से कोई संबंध नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी से पूछा- अब दलित और पिछड़े राष्‍ट्रवादी नहीं रहे क्‍या?
2 सुषमा ने साधा फिल्मी सितारों पर निशाना, कहा- पत्‍नी दर्द नहीं झेल पातीं इसलिए सरोगेसी कराते हैं सेलिब्रिटीज
3 म्यांमार समेत पूर्वी भारत में महसूस किए गए भूकंप के झटके, 6.8 रही तीव्रता
ये पढ़ा क्या?
X