ताज़ा खबर
 

CAA नाटक पर देशद्रोह का मामला: जेल में बंद मां के बारे में पूछने पर फूट-फूट कर रोया 9 साल का मासूम, पुलिस ने की बच्चों से पूछताछ

बच्चे की मां नजमुन्निसा पिछले तीन दिनों से जेल में बंद हैं। उनपर कक्षा पांच के छात्रों से नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्ले करवाने पर देशद्रोह का चार्ज लगा है।

bidarशाहीन उर्दू प्राइमरी स्कूल में 254 छात्र हैं। (Express Photo: Sreenivas Janyala)

महज नौ साल का बच्चा उस वक्त फूट-फूटकर रोने लगा जब उससे पूछा गया कि उसकी मां कहा है। बच्चे की मां नजमुन्निसा पिछले तीन दिनों से जेल में बंद हैं। उनपर कक्षा पांच के छात्रों से नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्ले करवाने पर देशद्रोह का चार्ज लगा है। उन्होंने कहा कि जो उनसे नागरिकता के कागज मांगेगा उसे जूतों से पीटेंगी। नजमुन्निसा के अलावा पुलिस ने स्कूल की प्रिंसिपल फरीदा बेगम को भी देशद्रोह के आरोप में पकड़ा है।

गिरफ्तारी के बाद से शाहीन उर्दू प्राइमरी स्कूल के छात्रों से पूछताछ के लिए पुलिस रोजाना तबिश दे रही है। छात्रों के माता-पिता भी यह सुनिश्चित करने के लिए आते रहे हैं कि ऐसा होने पर वो उनके आसपास रहें। बता दें कि सोमवार (3 जनवरी, 2020) को डी नागेश ने बीदर एसपी का पदभार संभाला, चूंकि 31 जनवरी को अचनाक तब के बीदर एसपी टी श्रीधर का ताबदला कर दिया गया था। इस घटनाक्रम के एक दिन बाद स्कूल से दो महिलाओं को गिरफ्तार किया कर लिया गया था।

इसी बीच बीदर जिला जेल में बंद 35 वर्षीय नजमुन्निसा कहती हैं कि उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) या नागरिक रजिस्टर पंजी. (NRC) के बार में बहुत कम जानकारी है। उन्हें सिर्फ इतना पता है कि उन्होंने एक इस कानून के बारे में टीवी पर सुना था जबकि एक बार किसी के मोबाइल में सुना था।’ नजमुन्निसा के मोबाइल फोन में व्हाट्सएप नहीं है।

उल्लेखनीय है कि नजमुन्निसा की बेटी सहित छह लोगों को एक नाटक में अभियन करने के लिए चुना गया था। नजमुन्निसा कहती हैं कि उनकी नौ साल की बेटी ने टीवी पर जो सुना था उसे प्ले में दोहराया का निर्णय लिया। घर पर भी कई बार अभिनय की लाइनों का पूर्वाभ्यास किया।

वहीं पुलिस का कहना है कि नजमुन्निसा को कक्षा 5 के छात्र के बयान के आधार पर गिरफ्तार किया गया था, जिसमें उसने कहा कि यह उसकी मां थी जिसने स्क्रिप्ट तैयार की थी, और नजमुन्निसा ही थीं जिन्होंने प्ले में कई बार ‘जूते मारेंगे’ कहने के लिए कई बार कहा था। ऐसा नाटक शुरू होने से ठीक पहले हुआ।

दूसरी तरफ स्कूल की प्रिंसिपल फरीदा बेगम का तर्क है कि उन्हें नहीं पता था कि प्ले में छात्र क्या कहने की योजना बना रहे थे। उन्होंने कहा, ‘हमने सीएए के बारे में छात्रों को सूचित करने के लिए नाटक का मंचन करने का निर्णय लिया। एक व्यापक रूपरेखा देने के बाद, मैंने अपनी स्क्रिप्ट तैयार करके इसे सात छात्रों के लिए छोड़ दिया। मुझे नहीं पता था कि नजमुन्निसा ने क्या तैयार किया था।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘बलात्कार के भय को अभियान संदेश’ बना रहे भाजपा नेता, महिला समूहों ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र
2 सियाचिन में जवानों को कम मिल रहा राशन और उपकरण, CAG की रिपोर्ट में हुआ खुलासा
3 Delhi Election 2020: 70 में 54-60 सीटें जीत सकती है आप, भाजपा को 10-14 सीटें मिलने का अनुमान, टाइम्स नाउ पोल
ये पढ़ा क्या?
X