ताज़ा खबर
 

केरल: स्कूल प्रशासन का आदेश- गुड मॉर्निंग की जगह बोलना होगा Hari Om  

स्कूल की ओर से जारी नियमों में कहा गया है कि बच्चों को टीचरों और सीनियर अथॉरिटीज को हाथ जोड़कर हरि ओम (Hari Om) कहकर नमस्कार करना होगा।

Author तिरुवंतपुरम | October 17, 2016 6:27 PM
(REPRESENTATIVE IMAGE)

केरल के पीस इंटरनेशनल स्कूल के बाद अब एक दूसरा स्कूल अपने नियमों को लेकर चर्चा में आ गया है। स्कूल की ओर से जारी नियमों के मुताबिक बच्चों को टीचरों और सीनियर अथॉरिटीज को हाथ जोड़कर हरि ओम (Hari Om) कहकर नमस्कार करना होगा। स्कूल प्रशासन ने कहा कि बच्चों को सुबह स्कूल आने के समय अपने टीचरों से इसी क्रम में नमस्कार करना होगा। नियमों के मुताबिक स्टूडेंट को स्कूल में सिर्फ अंग्रेजी में ही बात करनी है, हालांकि उसे लैंग्वेज की क्लास में छूट दी गई है।

इंडिया टुडे के मुताबिक जब प्रिंसिपल प्रतिभा से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि नियमों की सूची को वेबसाइट पर डाला गया है। यह चिंमया संस्कृति का हिस्सा है और हम अपने स्टूडेंट्स से इसे फॉलो करने की आशा करते हैं। प्रिंसिपल ने कहा कि स्कूल ने इन नियमों को पालन करने के लिए किसी को बाध्य नहीं किया है, जैसा की वेबसाइट पर सख्ती से पालन करने के लिए कहा गया है।

वीडियो: स्कूल बस के एक बड़ी ड्रेन में गिरने से 7 बच्चों की मौत

ऐसा ही एक मामला केरल के कोझिकोड में भी सामने आया है, जहां एक सलाफी (कट्टर इस्लाम का संदेश देने वाला) धर्मोपदेशक ने मुस्लिम अभिभावकों से अपने बच्चों को मुख्यधारा के स्कूलों में नहीं भेजने के लिए कहा है। इस सलाफी धर्मोपदेशक का कहना है कि मुख्यधारा के स्कूलों में पढ़ने से मुस्लिम बच्चे इस्लाम और अल्लाह से दूर हो जाते हैं और काफिर बन जाते हैं। इस धर्मोपदेशक ने मुस्लिम अभिभावकों से बच्चों को अपने घर में ही इस्लामिक तौर तरीकों से शिक्षा देने की सलाह दी है। एक रिपोर्ट के मुताबिक धर्मोपदेशक के इस संदेश वाला ऑडियो एक इस्लामिक लर्निंग वेबपोर्टल edawa.net पर अपलोड किया गया है। इस ऑडियो में धर्मोपदेशक कह रहा है, ‘कक्षा दसवीं के जीव विज्ञान की किताब में इंसान के उत्पत्ती के बारे में दो बाते बतायी गई हैं। उसमें लिखा गया है कि इंसान को भगवान ने बनाया जो मात्र एक कल्पना है और दूसरा यह कि हम एप्स से विकसित होकर इंसान बने हैं। किताब में बताया गया है कि हमारे पूर्वज एप्स थे। लेकिन हम आदम के वंशज है।’

READ ALSO: मौलवी ने मुस्लिमों से कहा-अपने बच्चों को आम स्कूलों में न भेजें, दी जाती है इस्लाम विरोधी शिक्षा

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App