ताज़ा खबर
 

आसाराम की जमानत याचिका खारिज, आयुर्वेदिक केंद्र में उपचार की इजाजत की गुहार पर SC ने राजस्थान सरकार को भेजा नोटिस

आसाराम के वकील ने बताया कि वह उत्तराखंड में हरिद्वार तथा ऋषिकेष के बीच स्थित प्रकाश दीप इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद में उपचार कराना चाहते हैं।

नई दिल्ली | Updated: June 4, 2021 4:30 PM
आसाराम बापू 31 अगस्त, 2013 से जेल में है (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस/मोहम्मद शरीफ)

उच्चतम न्यायालय ने यौन उत्पीड़न के मामलों में उम्रकैद की सजा काट रहे आसाराम की उत्तराखंड में हरिद्वार के निकट एक आयुर्वेदिक केंद्र में उपचार कराने की इजाजत के लिये याचिका पर शुक्रवार को राजस्थान सरकार से जवाब मांगा। हालांकि शीर्ष अदालत ने यह टिप्पणी भी की कि वह इसके लिए आसाराम की सजा दो महीने निलंबित कर अंतरिम जमानत देने के पक्ष में नहीं है।

न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी की अवकाशकालीन पीठ ने कहा, ‘‘नोटिस जारी करें (राजस्थान सरकार को)’’। इसके साथ ही पीठ ने इस मामले को मंगलवार को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध कर लिया। शीर्ष अदालत राजस्थान उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ आसाराम की याचिका की वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सुनवाई कर रही थी।उच्च न्यायालय ने आसाराम को उनकी पंसद के चिकित्सा केंद्र में उपचार कराने के लिए सजा निलंबन की याचिका खारिज कर दी थी।

उल्लेखनीय है कि आसाराम को यौन उत्पीड़न के मामलों में उम्र कैद की सजा समेत विविध अवधि के कारावास की कई सजा मिली है याचिका पर सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा, ‘‘हम चिकित्सा के विशेषज्ञ नहीं हैं।’’ पीठ ने कहा कि वह सजा निलंबन पर विचार नहीं करेगी बल्कि आसाराम को उत्तराखंड के एक केंद्र में उपचार कराने की इजाजत देने के बाबत राज्य का रूख जानना चाहेगी। न्यायालय ने कहा, ‘‘हम सरकार से कहेंगे कि वह उन्हें वहां (केंद्र में) भर्ती कराए।’’

आसाराम के वकील ने बताया कि वह उत्तराखंड में हरिद्वार तथा ऋषिकेष के बीच स्थित प्रकाश दीप इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद में उपचार कराना चाहते हैं।जोधपुर की एक अदालत ने 25 अप्रैल, 2018 को आसाराम को 2013 में अपने आश्रम में एक किशोरी से बलात्त्कार का दोषी पाया था और उन्हें उम्र कैद की सजा सुनाई थी। अदालत ने आसाराम के सहयोगी शरद और शिल्पी को भी इसी मामले में उनकी भूमिका के लिये 20-20 साल की कैद की सजा सुनाई थी।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की 16 वर्षीय यह किशोरी मध्य प्रदेश के छिन्दवाड़ा में आसाराम के आश्रम में पढ़ाई करती थी। इस किशोरी ने अपनी शिकायत में कहा था कि आसाराम ने जोधपुर के निकट मनई इलाके में स्थित अपने आश्रम में उसे बुलाया था जहां उन्होंने 15 अगस्त, 2013 की रात में उसके साथ बलात्कार किया।अदालत ने 2002 के बलात्कार के एक अन्य मामले में भी आसाराम को 20 साल की कैद की सजा सुनाई थी। आसाराम पर गुजरात के सूरत मे भी बलात्कार का एक मामला चल रहा है। आसाराम को एक सितंबर, 2013 को गिरफ्तार करके जोधपुर लाया गया था और इसके बाद से ही वह न्यायिक हिरासत में है।

Next Stories
1 यूपी चुनाव से पहले बदल सकते हैं योगी सरकार के चेहरे, नरेंद्र मोदी के सहयोगी को मिल सकता है बड़ा रोल
2 बॉम्बे उच्च न्यायालय में देखने को मिला कोर्ट-रूम ड्रामा
3 पंजाब कांग्रेस विवाद: कमेटी के सामने पेश होने के बाद अमरिंदर सिंह ने कहा, “बैठक में जो हुआ, वो आपको नहीं बताऊंगा”
यह पढ़ा क्या?
X