ताज़ा खबर
 

SC ने कहा- बंटवारे के बावजूद हिंदू संयुक्त परिवार लौट सकता है वापस, जानिए पूरा मामला

मामला नवंबर 1960 का है। इस मामले में तीन भाइयों के बीच बंटवारा हुआ था। इस अपील में सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष मुद्दा यह था कि क्या 1979 में खरीदी गई कोई विशेष गृह संपत्ति संयुक्त परिवार की संपत्ति है या नहीं।

नई दिल्ली स्थित सुप्रीम कोर्ट (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः प्रेम नाथ पांडे)

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को दिए एक अहम फैसले में कहा कि हिंदू संयुक्त परिवार, जिसका भले ही बंटवारा हो गया हो, वापस एक हो सकता है और संयुक्त परिवार की स्थिति को जारी रखने के लिए फिर से जुड़ सकता है। जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस आर सुभाष रेड्डी की पीठ ने कहा कि पक्षकारों के कृत्यों से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि पिछले विभाजन के बाद पक्षकार फिर से जुड़ गए।

मामला नवंबर 1960 का है। इस मामले में तीन भाइयों के बीच बंटवारा हुआ था। इस अपील में सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष मुद्दा यह था कि क्या 1979 में खरीदी गई कोई विशेष गृह संपत्ति संयुक्त परिवार की संपत्ति है या नहीं। अपीलकर्ता का मामला यह था कि भू-संपत्ति को लैंड सीलिंग एक्ट से बचाने के लिए तीन भाइयों के बीच दिनांक 07 नवंबर 1960 को विभाजन दर्ज किया गया था और प्रत्येक शाखा को अलग करने और संयुक्त परिवार की स्थिति में बदलाव लाने का कोई इरादा नहीं था। बाद में बताया गया कि तीन भाइयों के बीच पुनर्मिलन हुआ था, जो कि 07.11.1960 के बाद पक्षकारों के कृत्यों और आचरण से पूरी तरह साबित होता है।

इस मामले में तथ्यों को संज्ञान में लेते हुए पीठ ने पाया कि वर्ष 1979 में जब टाटाबाद की आवासीय संपत्ति एक भाई के नाम पर प्राप्त की गई थी, तीनों शाखाएं संयुक्त हिंदू परिवार का हिस्सा थीं और घर की संपत्ति संयुक्त हिन्दू परिवार के एक सदस्य के नाम से खरीदी गई थीस जो सभी के हित में था।

अदालत ने यह भी देखा कि संयुक्त हिंदू परिवार का एक व्यक्तिगत सदस्य आयकर अधिनियम के साथ-साथ संपत्ति कर अधिनियम के तहत अपनी अलग-अलग रिटर्न दाखिल कर सकता है और इस तरह के रिटर्न दाखिल करना परिवार की स्थिति का निर्णायक नहीं है।

Next Stories
1 नीरव की बहन ने ईडी को सौंपे 17 करोड़ रुपये, भाई के खिलाफ सरकारी गवाह बन चुकी है पूर्वी
2 नीतीश के मंत्री ने दिया इस्तीफाः बोले- ऐसा मंत्री बनकर क्या फायदा
3 वैक्सीन की कमी के बीच स्वास्थ्य मंत्री का राज्यों पर निशाना, कहा- भय फैलाने के बजाए प्लानिंग में लगाएं ऊर्जा
ये पढ़ा क्या?
X