ताज़ा खबर
 

अपने आर्डर को इंप्लीमेंट होने में लगे 4 दिन तो बिफरा SC,अब खुद देखेगा कि बेल मिलने पर भी क्यों नहीं छूटते कैदी

अधिवक्ता ऋषि मल्होत्रा ​​​​ने सुझाव दिया कि कुछ ऐसी व्यवस्था हो कि जमानत देने के बाद रजिस्ट्रार के माध्यम से संबंधित जेल अधीक्षक को आदेश मेल कर दिया जाए। इससे आदेश संबंधित जेल पहुंचने पर तुरंत उस पर अमल हो सकेगा।

जेल में सूचना देर से पहुंचने पर अक्सर कैदियों की रिहाई में कई दिन लग जाते हैं। (पीटीआई फाइल फोटो)

उच्चतम न्यायालय ने अदालत से जमानत के बाद भी दोषियों को समय पर रिहा नहीं किए जाने पर नाराजगी जताई है। कोर्ट ने कहा कि यह लापरवाही है और वह इसको अब खुद देखेगा कि ऐसा क्यों नहीं हो रहा है। न्यायालय ने जेल अधिकारियों के देरी करने के मामले का स्वत: संज्ञान लिया है। मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना और जस्टिस एल नागेश्वर राव और एएस बोपन्ना की बेंच शुक्रवार को इस मामले की सुनवाई करेगी।

हाल ही में 8 जुलाई को आगरा सेंट्रल जेल में किसी मामले में बंद 13 दोषियों को सुप्रीम कोर्ट ने अंतरिम जमानत दी थी। आदेश पारित करने के चार दिन के अंदर उन्हें छोड़ा नहीं गया। इसके बाद ही रिहा किया गया। जेल अधिकारियों ने कहा कि उन्हें आदेश की प्रमाणित प्रति डाक से नहीं मिली है। इसलिए दोषियों को रिहा करने में समय लगा। ऐसे में दोषी जमानत पाने के बाद भी चार दिन तक जेल में पड़े रहे।

सभी दोषी अपराध करने के समय किशोर उम्र के थे और वे 14 से 20 साल जेल में बिता चुके थे। संयोग से, सुप्रीम कोर्ट द्वारा 8 जुलाई को 13 दोषियों को जमानत देने के बाद 12 जुलाई को न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी के नेतृत्व वाली अदालत के समक्ष पेश हुए वकील ऋषि मल्होत्रा ​​ने कहा कि अभी कैदियों को रिहा नहीं किया गया है। उन्हें रिहा किया जाना बाकी है। इसके बाद 12 जुलाई को उन्हें जेल से रिहा किया गया।

इस गैरजरूरी देरी पर अधिवक्ता ऋषि मल्होत्रा ​​​​ने अदालत को सुझाव दिया कि कुछ ऐसी व्यवस्था हो कि जमानत देने के बाद रजिस्ट्रार के माध्यम से संबंधित जेल अधीक्षक को आदेश मेल कर दिया जाए। इससे तुरंत सूचना संबंधित जेल पहुंच जाएगी और उस पर तुरंत अमल करते हुए दोषियों को जल्द से जल्द रिहा किया जा सकेगा।

न्यायमूर्ति बनर्जी ने वकील मल्होत्रा को आश्वासन दिया कि इस मामले को प्रशासनिक स्तर पर उठाया जाएगा। फिलहाल शुक्रवार को इस पर अदालत सुनवाई करेगी।

Next Stories
1 अब भारत में ड्रोन इस्तेमाल करना होगा आसान, सिविल एविएशन मिनिस्‍ट्री ने जारी किया नए कानून का ड्राफ्ट
2 जब अंजना ओम कश्यप से भिड़ गए थे साक्षी महाराज, बोले- मैं चार में से तीन भाई गैरशादीशुदा, मुझे मिलना चाहिए इनाम
3 कोरोना वैक्सीन की कमी पर प्रियंका गांधी का तंज, कहा- प्रचारजीवी सरकार
ये पढ़ा क्या ?
X