ताज़ा खबर
 

विजय माल्‍या के विला में घुसे एसबीआई के 44 बाउंसर, स्‍टाफ को निकाल बाहर किया

राधेश्याम के साथ पहुंचे एक बाउंसर ने कहा, 'क्या बताएं, ये बड़े लोगों का घर है। हमें एक बार नजदीक से देखने का मौका मिल गया, बस काफी है।'

Author गोवा | May 15, 2016 1:09 PM
बाउंसर नहीं जानते की उन्हें वहां कबतक रहना पड़ेगा

17 बैंकों से 9 हजार करोड़ का कर्जा लिए बैठे किंगफिशर के मालिक विजय माल्या के गोवा वाले शानदार विला पर शुक्रवार को एसबीआई (SBI) बैंक के बाउंसर्स का कब्जा हो गया। 3 एकड़ में फैला जो विला टूरिस्ट का फेवरेट हुआ करता था, जिसकी देखरेख के लिए लगभग 50 लोगों का स्टाफ था, अब उसमें 44 बाउंसर्स का ‘राज’।

मुंबई एडीएफ सिक्योरिटी सर्विस नाम की एक कंपनी के इन बाउंसर्स को SBICAP ट्रस्टी कंपनी लिमिटेड ने तैनात किया है। इन लोगों को लोन रिकवरी के लिए इस विला पर कब्जा करने की परमिशन नोर्थ गोवा के डिस्ट्रिक्ट कलैक्टर ने दी थी।

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान उन बाउंसर्स के हेड राधेश्याम ने बताया कि उन्होंने अपने 44 लड़कों को विला में फैला रखा है। राधेश्याम के मुताबिक पहले उन्हें नहीं पता था कि यह घर विजय माल्या का है। कब्जा करने से पहले वह बस इतना जानते थे कि लोन रिकवरी के लिए उन्हें एक घर में रहना है।

Read also: ‘दिवालिया’ विजय माल्या के पास अब भी है खरबों की संपत्ति, जानिए 

राधेश्याम गुरुवार को ही अपनी टीम के साथ मुंबई से गोवा के लिए निकल पड़े थे। क्योंकि सिर्फ अचल संपत्ति पर ही बैंक का अधिकार है इसलिए इन लोगों ने वहां के स्टाफ को निकालने से पहले उन्हें गाड़ियां और फर्निचर ले जाने की इजाजत दे दी।

Read also : विजय माल्या की नौ हजार करोड़ की संपत्ति कुर्क करेगा ईडी

रिकवरी के लिए राधेश्याम के साथ पहुंचे एक बाउंसर ने कहा, ‘क्या बताएं, ये बड़े लोगों का घर है। हमें एक बार नजदीक से देखने का मौका मिल गया, बस काफी है।’

कई रईस और मशहूर लोगों की मौजूदगी का एहसास कर चुके इस विला को 150 करोड़ में नीलाम करने की बात भी हुई थी पर, अभी तक उसका कुछ नहीं हुआ।

Read also : ब्रिटेन में तीन मंजिले महल में रहते हैं विजय माल्या, मतदाता सूची में भी है नाम

फिलहाल, बाकी लोगों की तरह राधेश्याम और उनके साथ आए बाउंसर्स को नहीं पता कि माल्या कब पैसे देंगे और कब उन्हें घर जाने का मौका मिलेगा। राधेश्याम ने कहा, ‘हमें नहीं पता कि आगे क्या होगा। हमें कब घर जाना है यह भी अभी साफ नहीं है। पर, जब तक कंपनी कहेगी तबतक हम लोग यहां रहेंगे।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App