ताज़ा खबर
 

देश के सबसे बड़े बैंक की मुखिया निजी बैंकों के हेड से 75% कम पाती हैं सैलरी, जानिए-किसकी है कितनी तन्ख्वाह

एसबीआई की चेयरमैन अरुंधति भट्टाचार्य को पिछले वित्त वर्ष में सालाना 28.96 लाख रुपये का वेतन मिला है, जो प्राइवेट बैंक के प्रमुखों के वेतन से बहुत कम है।

SBI Merger news, SBI Merger latest news, SBI Merger associate Banks, arundhati bhattacharya news, arundhati bhattacharya latest news, SBI arundhati bhattacharyaएसबीआई के मुख्यालय में बैंक की प्रमुख अरूंधति भट्टाचार्य। (REUTERS/Danish Siddiqui/File Photo)

दुनिया भर के 50 सबसे बड़े बैंकों में शामिल भारत के सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की हेड अरुंधति भट्टाचार्य की सैलरी प्राइवेट बैंकों के प्रमुखों से बहुत कम है। उनकी सालाना सैलरी जानकर और दूसरे बड़े प्राइवेट बैंकरों की सैलरी से तुलना कर आपको भी आश्चर्य होगा। शायद इसीलिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने पिछले साल अगस्त में इस मुद्दे को उठाया था। उन्होंने कहा था कि वेतन और भत्ते की वजह से देश के सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में टॉप मैनेजमेंट पोस्ट पर टैलेन्डेट लोग नहीं आते हैं।

कई बैंकों की वार्षिक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि एसबीआई की चेयरमैन अरुंधति भट्टाचार्य को पिछले वित्त वर्ष में सालाना 28.96 लाख रुपये का वेतन मिला है, जो प्राइवेट बैंक के प्रमुखों के वेतन से बहुत कम है। सरकारी और निजी क्षेत्र के बैंक प्रमुखों की सैलरी की तुलना करने पर पता चला कि निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई बैंक की एमडी एंड सीईओ चंदा कोचर को पिछले साल 2.26 करोड़ रुपये बतौर बेसिक सैलरी, 2.22 करोड़ रुपये बतौर बोनस और 2.43 करोड़ रुपये भत्ते के रूप में मिले हैं। यानी उन्हें सालाना 6.91 करोड़ रुपये का पैकेज मिला है।

इसी तरह एक्सिस बैंक की एमडी एंड सीईओ शिखा शर्मा को पिछले वित्त वर्ष में 2.7 करोड़ रुपये बतौर बेसिक सैलरी, 1.35 करोड़ रुपये बतौर वैरिएबल पे और 90 लाख रुपये पर्क्स और एचआरए के रुप में मिले हैं। यस बैंक के एमडी एंड सीईओ राणा कपूर भी अधिक सैलरी पाने वालों में शामिल हैं। साल 2016-17 में उन्हें 6.8 करोड़ रुपये की सैलरी मिली है।

प्राइवेट क्षेत्र के दूसरे बड़े बैंक एचडीएफसी के मैनेजिंग डायरेक्टर आदित्य पुरी को पिछले साल करीब 10 करोड़ का सालाना पैकेज मिला। इसके अलावा करीब 57 करोड़ रुपये की उनकी शेयर पूंजी भी है। बता दें कि पिछले साल मुंबई में एक सेमिनार में रघुराम राजन ने बैंक प्रमुखों की कम सैलरी पर बात करते हुए कहा था कि उनकी सैलरी भी बहुत कम है।

सैलरी के मामले में भले ही एसबीआई हेड पीछे हों लेकिन सहयोगी बैंकों के विलय के बाद अब एसबीआई 42.04 करोड़ ग्राहकों के साथ देश का सबसे बड़ा बैंक बना हुआ है। इसका मार्केट शेयर 23.07 फीसदी है। इस बैंक में कुल निवेश जमा का 21.16 फीसदी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राष्‍ट्रपति चुनाव: सुषमा स्‍वराज का विपक्षी उम्‍मीदवार मीरा कुमार पर निशाना- ‘उन्‍होंने मुझे 6 मिनट में 60 बार टोका’
2 सुब्रहमण्यम स्वामी की रजनीकांत को धमकी: राजनीति का सफर शुरू होने पहले ही कर दूंगा खत्म
3 मन की बात अपडेट: पीएम नरेंद्र मोदी ने 33वीं बार किया देश को संबोधित, जानिए क्या-क्या कहा
ये पढ़ा क्या ?
X