ताज़ा खबर
 

RBI गवर्नर नहीं बता सके- नोटबंदी में कितने पुराने नोट वापस आए और कब तक सही होगा सिस्टम

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी कांग्रेस नेता विरप्पा मोइली की अध्यक्षता वाली वित्तीय मामलों की स्थाई संसदीय कमेटी के सदस्य हैं।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया गवर्नर उर्जित पटेल। (Source: PTI)

नोटबंदी के मामले पर चर्चा करने के लिए बुधवार को वित्तीय मामलों की स्थाई संसदीय कमेटी की बैठक हुई। बैठक में आरबीआई गवर्नर सहित वित्त मंत्रालय के अधिकारी कमेटी के सामने पेश हुए। इस बैठक में नोटबंदी के फैसले और इस फैसले से भारतीय अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले असर पर चर्चा की गई। टीएमसी सांसद और स्थाई संसदीय कमेटी के सदस्य सौगत रॉय ने मीडिया से कहा कि हमें भारतीय रिजर्व बैंक के अधिकारियों में से किसी ने नहीं बताया कि सिस्टम कब तक सामान्य होगा। सभी अधिकारी अपने बचाव में लगे हुए थे। साथ ही रॉय ने बताया कि आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल हमें यह भी नहीं बता पाए कि नोटबंदी के बाद से कितने पुराने नोट बैंकों में जमा हुए हैं।

सूत्रों के हवाले से न्यूज एजेंसी एएनआई ने लिखा है, ‘आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल ने स्थाई संसदीय कमेटी के सदस्यों को बताया कि 9.2 लाख करोड़ रुपए की नई करेंसी बाजार में उतारी गई हैं।’ वहीं एएनआई ने इससे पहले सूत्रों के हवाले से लिखा था कि वित्त मंत्रालय के अधिकारियों के पास इस सवाल का जवाब नहीं था कि बैंकों में कितने पुराने नोट पहुंचे हैं और कितने नए नोट छापे गए हैं।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 25799 MRP ₹ 30700 -16%
    ₹3750 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी कांग्रेस नेता विरप्पा मोइली की अध्यक्षता वाली वित्तीय मामलों की स्थाई संसदीय कमेटी के सदस्य हैं। कमेटी नोटबंदी के फैसले और उससे पड़ने वाले असर की जांच कर रही है। साथ ही कमेटी इसकी भी जांच कर रही है कि कैश की किल्लत को खत्म करने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने क्या कदम उठाए।

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर 2016 को किया था। इसके साथ ही बैंक और एटीएम से कैश निकालने की भी एक सीमा तय कर दी गई थी। इससे लोगों को कैश की काफी दिक्कत हुई। कई विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस नोटबंदी के फैसले का विरोध किया। विपक्षी दलों ने आरोप लगाया था कि पीएम मोदी के इस फैसले से भारत की अर्थव्यवस्था पर नकारात्मक असर पड़ेगा। साथ ही फैसले की तैयारी पर भी सवाल उठाए गए थे।

वीडियो- नोटबंदी: RBI गवर्नर उर्जित पटेल ने संतोषजनक जवाब न दिए, तो पीएम मोदी को तलब कर सकती है संसदीय समिति

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App