ताज़ा खबर
 

शारदा घोटाला: अक्तूबर के अंत में पहला आरोपपत्र दायर करेगी सीबीआई

कोलकाता। चार माह पहले कई करोड़ रूपए के शारदा पोंजी योजना घोटाले की जांच शुरू करने वाली सीबीआई की विशेष अपराधा शाखा अक्तूबर के अंत में पहला आरोपपत्र दायर करेगी। जांच एजेंसी ने आज बताया, ‘‘गिरफ्तारियों और पूछताछ के बाद मिले साक्ष्यों के आधार पर हम अक्तूबर के अंत तक पहला आरोपपत्र दायर करेंगे।’’ उन्होंने […]

Author Updated: October 7, 2014 4:52 PM

कोलकाता। चार माह पहले कई करोड़ रूपए के शारदा पोंजी योजना घोटाले की जांच शुरू करने वाली सीबीआई की विशेष अपराधा शाखा अक्तूबर के अंत में पहला आरोपपत्र दायर करेगी।

जांच एजेंसी ने आज बताया, ‘‘गिरफ्तारियों और पूछताछ के बाद मिले साक्ष्यों के आधार पर हम अक्तूबर के अंत तक पहला आरोपपत्र दायर करेंगे।’’
उन्होंने कहा कि पहले आरोपपत्र में जांचों के एक हिस्से और उन लोगों को शामिल किया जाएगा, जिनके खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य मिल चुके हैं।
शारदा मामले में एजेंसी आपराधिक षडयंत्र, धन के दुरूपयोग और आपराधिक विश्वासघात के पहलुओं की जांच कर रही थी।

अधिकारी ने कहा कि घोटाले के पीछे षडयंत्र की जांच के लिए अब तक एजेंसी ने दस लोगों को गिरफ्तार किया है और कई लोगों से पूछताछ की है। इस घोटाले में हजारों जमाकर्ताओं के साथ धोखाधड़ी की गई थी।

अधिकारी ने कहा कि सीबीआई ने अपराध के सिलसिले में पश्चिम बंगाल के कपड़ा मंत्री एस. मुखर्जी और तृणमूल कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के करीबी चित्रकार शुवोप्रसन्ना को भी तलब किया ।

एजेंसी उन लोगों से भी पूछताछ करेगी, जिनके नाम आरोपियों से पूछताछ में सामने आए हैं।

जब उनसे पूछा गया कि क्या सीबीआई प्रतिक्रिया की आशंका से उन प्रभावशाली राजनैतिक लोगों से पूछताछ करने से बचेगी, जिनके नाम जांच के दौरान सामने आए हैं, तो उन्होंने कहा, ‘‘हमें इस बात की बिल्कुल चिंता नहीं है कि क्या होगा। हमारे निदेशक ने हमें स्पष्ट तौर पर बताया है कि जो भी अपराध का दोषी पाया जाए, उससे पूछताछ की जानी चाहिए। किसी को भी छोड़ा नहीं जाएगा और हम ऐसा नहीं कर सकते।’’

उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की संख्या में ‘गंभीर’ कमी के चलते जांच को गति देने में समस्या आ रही है। उन्होंने कहा, ‘‘शारदा जांच में सिर्फ नौ से दस अधिकारी लगे हैं। यह पर्याप्त नहीं है।’’

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories