ताज़ा खबर
 

PMC Bank Scam: पत्नी वर्षा ने मांगा ED से वक्त, संजय राउत कह रहे थे बीजेपी नेताओं की फाइलें मेरे पास

पत्नी के नाम समन जारी होने के बाद संजय राउत ने कहा था कि यह नोटिस राजनीति से प्रेरित है और कागज के टुकड़ों से ज्यादा कुछ भी नहीं है। इसके अलावा संजय ने अपनी पत्नी का बचाव करते हुए कहा था कि मेरी पत्नी एक घरेलू महिला हैं उनका राजनीति या किसी भी सरकार से कुछ लेना देना नहीं है।

शिवसेना सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को पीएमसी बैंक धनशोधन मामले में पूछताछ के लिए ईडी के सामने पेश होना है। फाइल फोटो। फोटो सोर्स- Indian Express

प्रवर्तन निदेशालय(ED) पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक धोखाधड़ी मामले में शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत से पूछताछ करना चाहता है। जिसके लिए ईडी ने वर्षा राउत को समन जारी कर आज 29 दिसंबर को पूछताछ के लिए बुलाया था।  शिवसेना सांसद की पत्नी ने ईडी के सामने पेश होने के लिए 5 जनवरी तक का समय माँगा है। पत्नी को समन मिलने के बाद संजय राउत ने निशाना साधते हुए कहा था कि बीजेपी के सैंकड़ों नेताओं की फाइल मेरे पास भी है।

प्रवर्तन निदेशालय वर्षा राउत से 55 लाख रुपये लेन देन के मामले में पूछताछ करना चाहता है। असल में ईडी पीएमसी बैंक धोखाधड़ी से जुड़े वित्तीय अपराध के मामलों की जाँच आकर रहा है। वर्षा राउत को धनशोधन रोकथाम कानून के प्रावधानों के तहत समन जारी किया गया था। पेश होने के लिए उन्हें तीसरी बार समन जारी किया गया था लेकिन वह दो बार स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए हाजिर नहीं हुई थी।

पत्नी के नाम समन जारी होने के बाद संजय राउत ने कहा था कि यह नोटिस राजनीति से प्रेरित है और कागज के टुकड़ों से ज्यादा कुछ भी नहीं है। इसके अलावा संजय ने अपनी पत्नी का बचाव करते हुए कहा था कि  मेरी पत्नी एक घरेलू महिला हैं  उनका राजनीति या किसी भी सरकार से कुछ लेना देना नहीं है। उनको निशाना बनाना एक कायराना हरकत है और ये सिर्फ हमें डराने की कोशिश है जिसमें भाजपा कभी कामयाब नहीं होगी। राउत ने ये भी कहा कि उनके पास भी भाजपा के सैंकड़ों नेताओं की लिस्ट है इसलिए अगर मैं उनके परिवार तक जा पहुंचा तो उनको देश छोड़कर भागना पड़ेगा।

ईडी ने पिछले साल अक्टूबर में पीएमसी बैंक में कथित ऋण धोखाधड़ी की जांच के लिए हाउसिंग डेवलपमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल), उसके प्रमोटर राकेश कुमार वधावन और उनके बेटे सारंग वधावन तथा पूर्व अध्यक्ष वी. सिंह और पूर्व प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस के खिलाफ पीएमएलए के तहत मामला दर्ज किया था। असल में पीएमसी बैंक में फर्जी खतों के 6500 करोड़ के लेनदेन की घटना आरबीआई के नजर में आई थी। जिसके बाद बैंक पर आरबीआई की तरफ से कड़े प्रतिबंध लगा दिए गए थे।

Next Stories
1 रिपब्लिक की टीआरपी बढ़ाने के लिए अर्नब गोस्वामी ने पूर्व बार्क सीईओ को दिए लाखों रुपए- मुंबई पुलिस ने कोर्ट को बताया
2 कुछ भी होता है तो हमारा ही रोना रोते हैं, कांग्रेस प्रवक्ता अखिलेश सिंह ने मोदी पर कसा तंज
3 किसान को भड़काओ… भाग जाओ, न्यूज एंकर ने राहुल गांधी पर परोक्ष रूप से कसा तंज
यह पढ़ा क्या?
X