अरे! राहुल गांधी आपके मुख्यमंत्री ने रिलायंस को आमंत्रित किया था, बोले संबित पात्रा तो कांग्रेस नेता ने दिया ये जवाब

संबित पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी को रबी और खरीफ की फसल में अंतर भी नहीं पता है। उन्होंने कहा कि पंजाब में रिलायंस को कांग्रेस ही लाई थी।

BJP, SAMBIT PATRA, FARMERSकिसान आंदोलन को लेकर राहुल गांधी लगातार केंद्र सरकार पर जुबानी हमले करते रहे हैं। फोटो सोर्स- ANI

सरकार के कई प्रयासों के बावजूद किसानों का आंदोलन खत्म नहीं हुआ है। किसान कृषि कानूनों को वापस लेने पर अड़े हुए हैं। इस मामले में रिपल्बिक भारत पर अर्नब गोस्वामी के शो में संबित पात्रा ने एक कागज दिखाते हुए कहा कि 27 मार्च 2016 को कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया था कि पंजाब में रिलायंस ग्रुप को लाया जाएगा।

पात्रा ने कहा, आपके राहुल गांधी ने पंजाब में रिलायंस को लाए जाने पर खुद को बधाई दी थी और अकाली दर को कोसा था और आज पलट गए हैं। इसपर कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, आपको सपने में राहुल गांधी नजर आते हैं। संबित पात्रा ने फिर कहा, रबी और खरीफ की फसल में क्या अंतर होता है पता है राहुल गांधी जी को?

संबित पात्रा ने कृषि मंत्री की चिट्ठी दिखाते हुए कहा कि कृषि मंत्री ने उत्तर दिया है कि किससे-किससे इस मामल में राय ली गई। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, देश के कोने-कोने में किसानों का आंदोलन हो रहा है और आप उन्हें समझा नहीं पा रहे हैं।

संबित पात्रा ने कहा, अरे भैया राहुल गांधी, आप बताइए कि क्या आपने तीनों बिल पढ़ें हैं? उन्होंने ये बिल देखे भी नहीं होंगे। अरविंद केजरीवाल को सबसे बड़ा नाटकबाज बताते हुए कहा कि ये झूठ बोलने में एक्सपर्ट हैं। इन्होंने मैनिफेस्टो में कहा था कि एपीएमसी में बदलाव किया जाएगा जिससे कि किसान बाहर भी अपनी फसल बेच सकें। ये सारे नाटकबाज हैं। ये अपनी जेब भरने केलिए किसानों की जेब काट रहे हैं।

राहुल गांधी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, एक अक्षम व्यक्ति के पास सत्ता है जिसका कहीं भी नियंत्रण नहीं है औऱ वह कुछ नहीं जानता है। उसे कोई नियंत्रित करता है, वह तीन और चार अन्य लोगों की तरफ से सत्ता चला रहा है। गरीबों से पैसा लेकर उनकी जेब में डालना है। यह बात युवाओं को समझनी चाहिए। अगर आप पत्रकार हैं, छोटे बिजनसमैन हैं तो आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।

राहुल गांधी लगातार किसान आंदोलन को लेकर सरकार पर प्रहार करते रहते हैं। उन्होंने कई बार ट्वीट करके पूछा, ‘अभी किसानों को कितनी कुर्बानी देनी होगी।’ उन्होंने इन तीनों कानूनों को किसान विरोध बताया है।

Next Stories
1 28 साल बाद मिला सिस्टर अभया को इंसाफ, पादरी और सिस्टर को उम्र कैद की सजा
आज का राशिफल
X