ताज़ा खबर
 

आजम खान को कोर्ट से तगड़ा झटका, भरने होंगे 3.27 करोड़ रुपए; कब्जा हटने तक 9.1 लाख भी चुकाने होंगे PWD को

दरअसल, यूपी के रामपुर में मौलाना मोहम्मद जौहर अली विश्वविद्यालय के मामले को लेकर उपजिलाधिकारी ने यह बड़ा आदेश सुनाया है।

Azam Khan, Samajwadi Party, MP, Shock, Court, 3.27 Crores, Land Case, Rampur, UP, State News, Hindi News, Jansatta News, India News, आजम खान, समाजवादी पार्टी, सपा, रामपुर, जमीन, भूमाफिया, जमीन, लोक निर्माण विभाग, मौलाना मोहम्मद जौहर अली विश्वविद्यालय, यूपी समाचार, हिंदी समाचारसपा सांसद आजम खान। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः ओइनम आनंद)

किसानों की जमीनें कब्जाने पर प्रशासन द्वारा भूमाफिया घोषित हुए सपा सांसद आजम खान को तगड़ा झटका लगा है। गुरुवार (25 जुलाई, 2019) को जमीन कब्जाने से जुड़े एक मामले उन्हें रामपुर स्थित एसडीएम कोर्ट ने क्षतिपूर्ति के तौर पर तीन करोड़ 27 लाख 60 हजार रुपए भरने का आदेश दिया। सपा नेता को इसके साथ ही कब्जा हटने तक हर महीने लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) को 9.1 लाख रुपए भरने होंगे।

दरअसल, उत्तर प्रदेश के रामपुर में मौलाना मोहम्मद जौहर अली विश्वविद्यालय के मामले को लेकर उपजिलाधिकारी ने यह बड़ा आदेश सुनाया है। उन्होंने विवि के भीतर सार्वजनिक मार्ग से अनधिकृत कब्जा हटाने के लिए निर्देश दिए हैं। बता दें कि विवि के भीतर करीब साढ़े तीन किमी लंबे सड़कें ऐसी हैं, जो कई गांवों को वहां से जोड़ती थीं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीडब्ल्यूडी ने इस मसले पर कोर्ट में आजम की शिकायत की थी, जिस पर आज यह आदेश आया है। आजम को अब सरकारी सड़क से 15 दिनों के अंदर कब्जा हटाना होगा, जिसमें विवि का गेट शामिल है। उन्हें सड़क का कब्जा पीडब्लूडी को सौंपना होगा। हालांकि, सपा सांसद का इस बाबत कहना है कि यह उन्हें फंसाने की साजिश है।

बता दें कि आजम पर पिछले एक हफ्ते में 20 से अधिक मुकदमे दर्ज हो चुके हैं, जबकि एसडीएम की ओर से उनका नाम एंटी-भू माफिया पोर्टल में भी शामिल कर लिया गया है। इससे पहले, सपा सांसद के खिलाफ प्रशासन ने कोसी नदी वाले इलाके की पांच हेक्टेयर सरकारी जमीन हड़पने और सरकारी काम-काज में बाधा पैदा करने को लेकर केस दर्ज कराया गया था।

इसी बीच, बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट कर कहा है, “आजम अब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के जाल में हैं और वह जेल जाएंगे। जब तक वित्त मंत्री रेवन्यू सेक्रेट्री को उस ईडी अधिकारी की जांच के आदेश नहीं देतीं, जो कि आजम की जांच कर रहा है या फिर उस अधिकारी को जानबूझ कर रिटायर किया जाए।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 15 गोलियां लगने के बाद भी पाक सैनिकों पर फेंका ग्रेनेड, उड़ा दिए थे चिथड़े, जानिए कौन हैं कारगिल के हीरो परमवीर योगेंद्र
2 मॉब लिंचिंग पर पीएम को 49 हस्तियों की चिट्ठी को टीएमसी सांसद नुसरत जहां का समर्थन, बोलीं- खून खराबा बंद हो
3 Video: जवानी के 23 साल जेल में बीते, बाइज्जत बरी होकर घर लौटा तो नहीं मिले मां-बाप, कब्र पर फूट-फूटकर रोया
ये पढ़ा क्या?
X