ताज़ा खबर
 

10 माह से अटकी थी सैलरी, 130 दिनों से कर रहा था प्रदर्शन; नहीं पूरी हुई मांग तो BSNL कर्मी ने दफ्तर में ही लगा ली फांसी

कर्मचारियों को कई महने से वेतन नहीं मिला है ऐसे में उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। जिसके चलते बीएसएनएल के एक अनुबंधित कर्मचारी ने पिछले 10 महीने से वेतन नहीं मिलने के कारण बृहस्पतिवार को केरला के दफ्तर में फांसी लगाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली।

Author नई दिल्ली | Published on: November 7, 2019 10:09 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) इस वक़्त बुरे दौर से गुजर रहा है। कर्मचारियों को कई महने से वेतन नहीं मिला है ऐसे में उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। जिसके चलते बीएसएनएल के एक अनुबंधित कर्मचारी ने पिछले 10 महीने से वेतन नहीं मिलने के कारण बृहस्पतिवार को केरला के दफ्तर में फांसी लगाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली।

पुलिस ने बताया कि रामकृष्णन जिले में वंडूर का रहने वाला था और वह पिछले 30 साल से अंशकालिक सफाईकर्मी के तौर पर काम कर रहा था।
श्रमिक संघ के नेताओं ने बताया कि अनुबंधित कर्मचारी को पिछले 10 महीने से वेतन नहीं मिल रहा था और बीते 130 दिन से वे बकाया वेतन की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

बता दें कि इससे पहले सरकार ने घाटे में चल रही सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों बीएसएनएल और एमटीएनएल के लिए 68,751 करोड़ रुपये के पुनरुद्धार पैकेज को मंजूरी दी थी। इसमें एमटीएनएल का बीएसएनएल में विलय, कर्मचारियों के लिये स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) और 4 जी स्पेक्ट्रम आवंटन शामिल है।

बीएसएनएल ने अपने कर्मचारियों के लिये स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) पेश भी कर दी है। कंपनी को उम्मीद है कि इस योजना का लाभ 70,000 से 80,000 कर्मचारी उठाएंगे और इससे वेतन मद में करीब 7,000 करोड़ रुपये की बचत होगी। सरकार के इस दूरसंचार कंपनी के लिये राहत पैकेज की मंजूरी के कुछ दिनों बाद वीआरएस लायी गयी है।

बीएसएनएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक पी के पुरवार ने इस योजना को लेकर पीटीआई से कहा था कि योजना चार नवंबर से तीन दिसंबर तक खुली रहेगी। वीआरएस की पेशकश के बारे में कर्मचारियों को जानकारी देने के लिये क्षेत्रीय इकाइयों को इस बारे में निर्देश दिये जा चुके है। कंपनी के कर्मचारियों की संख्या 1.50 लाख है और करीब एक लाख कर्मचारी इस योजना के लिये पात्र हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 राम मंदिर पर चर्चा में फालतू बोल रहे थे पैनलिस्ट, एंकर का तंज- निबंध याद कर आएं हैं? वापस मुद्दे पर आएं
2 राष्ट्रगान के दौरान सिनेमा हॉल में बैठे रहे, FIR दर्ज
3 अमित शाह के बेटे जय शाह को अकाउंट खोलते ही कैसे दिया ब्‍लू टिक? ट्वि‍टर पर सवाल उठा रहे लोग
जस्‍ट नाउ
X