ताज़ा खबर
 

गंगा पूजन में पहुंचे मुख्य सचिव तो संतों का चढ़ा पारा, सीएम के नतमस्तक होने पर सुलझा विवाद

महंत नरेंद्र गिरी ने कुंभ मेले की अव्यवस्था के लिए मुख्य सचिव ओम प्रकाश को दोषी ठहराया। साथ ही महंत ने कहा कि मुख्य सचिव का मेले में आने का कोई कार्यक्रम नहीं था।

tirath singh rawat, uttrakhand, haridwarमंगलवार को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कुंभ मेले की व्यवस्था से संबंधित 31 योजनाओं का लोकार्पण किया। (फोटो – ट्विटर/TIRATHSRAWAT)

हरिद्वार में 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक कुंभ का आयोजन किया गया है। मंगलवार को कुंभ मेले में गंगा पूजन के दौरान उत्तराखंड के मुख्य सचिव ओम प्रकाश के मौजूद रहने पर कई संत खफा हो गए। संतों के द्वारा नाराजगी प्रकट करने के बाद मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को संतों के सामने नतमस्तक होना पड़ा। जिसके बाद गंगा पूजन के दौरान मौजूद रहे संत शांत हुए।

दरअसल हरिद्वार में लगने वाले कुंभ मेले के सफल आयोजन के लिए गंगा पूजन किया जाता है। मंगलवार को हरकी पैड़ी ब्रह्मकुंड पर हुए गंगा पूजन का आयोजन किया जा रहा था। इस दौरान वहां उत्तराखंड के मुख्य सचिव ओम प्रकाश भी पहुंच गए। मुख्य सचिव को वहां मौजूद देख कई संत सिरे से उखड़ गए। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि गंगा पूजन में केवल हरिद्वार के जिलाधिकारी, मेलाधिकारी, मेला वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, मुख्यमंत्री, अखाड़ा परिषद और गंगा सभा के अलावा और किसी को आने का अधिकार नहीं है। 

इसके अलावा महंत नरेंद्र गिरी ने कुंभ मेले की अव्यवस्था के लिए मुख्य सचिव ओम प्रकाश को दोषी ठहराया। साथ ही महंत ने कहा कि मुख्य सचिव का मेले में आने का कोई कार्यक्रम नहीं था। लेकिन इसके बावजूद वो आए, यह बेहद ही गलत परंपरा है। हालांकि बाद में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने संतों से शांत रहने का निवेदन किया। जिसके बाद संत शांत हो गए।

इस दौरान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कुंभ मेले की व्यवस्था से संबंधित 31 योजनाओं का लोकार्पण किया। साथ ही उन्होंने अधिकारियों को कहा कि कुंभ में किसी तरह की कमी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इस दौरान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने अधिकारियों को साधु संतों का विशेष ख्याल रखने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि  इस बार कुंभ कोविड के बावजूद सतर्कता बरतते हुए दिव्य और भव्य होगा।

बता दें कि हरिद्वार में चल रहे कुंभ के ऊपर कोरोना संक्रमण का साया छाया हुआ है। 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक चलने वाले हरिद्वार कुंभ के पहले दिन ही 7 साधु कोरोना संक्रमित पाए गए थे। इसके अलावा बीते शनिवार को भी करीब 7 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। कुंभ शुरू होने के बाद हरिद्वार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 300 के पार हो गई है। हालांकि हरिद्वार कुंभ में गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं को कोरोना की 72 घंटे पहले तक की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट लाने का आदेश दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग कुंभ मेला में श्रद्धालुओं की कोरोना जांच भी कर रहा है।

Next Stories
1 मुस्लिमों से अपील पर पीएम ने साधा सीएम पर निशाना, ममता का पलटवार- बीजेपी की मीटिंगों में भीड़ नहीं, दिल्ली में बैठ कर रहे साजिश
2 पश्‍च‍िम बंगाल चुनाव: बीजेपी अध्‍यक्ष ने रद्द की दो रैल‍ियां, दबी जुबान से कम भीड़ बताई जा रही वजह
3 बीजेपी MP ने पूछा- PM मोदी मई में पेरिस, पुर्तगाल जाने वाले हैं? लोग बोले- हम गॉसिप में इच्छुक नहीं, चाहिए रोजगार
ये पढ़ा क्या?
X