ताज़ा खबर
 

इलाज करने वाले डॉक्टर का दावा- गोमूत्र से नहीं, बल्कि सर्जरी से ठीक हुआ था साध्वी प्रज्ञा का कैंसर

डॉक्टर राजपूत के अनुसार, उन्होंने साल 2008 में मुंबई के जेजे अस्पताल में साध्वी प्रज्ञा की सर्जरी की। इसके बाद साध्वी प्रज्ञा की भोपाल के एक अस्पताल में दूसरी सर्जरी की गई।

भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा। (PTI Photo)

भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ने बीते दिनों दावा किया था कि उन्होंने गोमूत्र से अपने कैंसर का इलाज किया है। हालांकि अब उनका इलाज करने वाले डॉक्टर ने ही उनके इस दावे को गलत बता दिया है। दरअसल राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट के सर्जन डॉक्टर एसएस राजपूत ने दावा किया कि साध्वी प्रज्ञा गोमूत्र से नहीं बल्कि सर्जरी से ठीक हुआ है। द हिंदू के साथ एक इंटरव्यू में डॉक्टर एसएस राजपूत ने बताया कि उन्होंने साध्वी प्रज्ञा को 3 बार इलाज किया है।

डॉक्टर राजपूत के अनुसार, साध्वी प्रज्ञा को स्टेज-1 के ब्रेस्ट कैंसर का पता चला था। डॉक्टर राजपूत के अनुसार, उन्होंने साल 2008 में मुंबई के जेजे अस्पताल में साध्वी प्रज्ञा की सर्जरी की। इसके बाद साध्वी प्रज्ञा की भोपाल के एक अस्पताल में दूसरी सर्जरी की गई। इसके बाद साल 2017 में राम मनोहर लोहिया अस्पताल में साध्वी प्रज्ञा की तीसरी बार सर्जरी की गई। इस सर्जरी के बाद आयी रिपोर्ट्स में पता चला कि साध्वी प्रज्ञा का कैंसर ठीक हो गया था। बता दें कि एक इंटरव्यू के दौरान साध्वी प्रज्ञा ने गाय पर हाथ फेरने से ब्लड प्रेशर कम होने की बात भी कही थी।

बता दें कि साध्वी प्रज्ञा की उम्मीदवारी को लेकर भाजपा को काफी आलोचना झेलनी पड़ रही है। विपक्षी पार्टियों ने मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से उम्मीदवार बनाए जाने पर कड़ी नाराजगी जाहिर की है। हालांकि पीएम मोदी और मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान खुलकर साध्वी प्रज्ञा का समर्थन कर चुके हैं। साध्वी प्रज्ञा के सामने कांग्रेस के दिग्विजय सिंह की चुनौती है। दिग्विजय सिंह ने मालेगांव ब्लास्ट के बाद हिंदू आतंकवाद का मुद्दा उठाया था। यही वजह है कि भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा को दिग्विजय सिंह के खिलाफ मैदान में उतारा है। भाजपा का कहना है कि कांग्रेस द्वारा भगवा को बदनाम करने की कोशिश की गई। हाल ही में साध्वी प्रज्ञा ने शहीद पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे के बारे में विवादित टिप्पणी की थी, जिसके चलते साध्वी प्रज्ञा को लोगों की आलोचना का शिकार बनना पड़ा था। हालांकि बयान पर बवाल होते देख साध्वी प्रज्ञा ने बाद में अपना बयान वापस ले लिया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Loksabha Elections 2019: नरेंद्र मोदी के स्वागत में बहा दिया गया 1.4 लाख लीटर पानी, काशी में 30% लोगों के पास पानी का कनेक्शन नहीं
2 वाराणसी से चुनाव न लड़ना प्रियंका गांधी का फैसला था, उनके पास और भी जिम्मेदारियां हैंः कांग्रेस
3 Lok Sabha Election 2019: ममता बनर्जी की पार्टी को वोट नहीं दिया तो तृणमूल समर्थक ने पत्‍नी को पिलाया तेजाब