ताज़ा खबर
 

असली चौकीदारों का हाल: 12-12 घंटे ड्यूटी पर छुट्टी एक भी नहीं, घर खर्च चलाना मुहाल

"हमारा जीवन जानवरों से भी बदतर है। बिना कोई साप्ताहिक छुट्टी के 12 घंटे का काम है। कभी-कभी रात की ड्यूटी होती है, कभी-कभी दिन की शिफ्ट होती है। अगर आप आधे घंटे भी देरी से आए तो वे तुरंत पैसा काट लेते हैं।"

Author Updated: March 19, 2019 3:53 PM
असली चौकीदारों का हाल बेहद ख़राब है (indian express file picture)

रात के 8:30 बजे हैं। किशोर जल्दबाजी में अपने टिफिन बॉक्स को अपने बैग में रख रहे हैं क्योंकि अब उनकी ड्यूटी ख़त्म हो गई है। किशोर ग्रेटर नोएडा की एक रेजिडेंट सोसाइटी के गेट नंबर 2 पर दिन भर प्लास्टिक की कुर्सी में बैठे रहते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि सूरज ढल रहा है या बारिश हो रही है, किशोर वहीं बैठे रहते हैं। अपनी धीमी आवाज़ में किशोर ने बताय ” सुबह 8 से शाम 8 की ड्यूटी रहती है। अब कहते हैं आधे घंटे पहले आओ। जब शिफ्ट बदली होती है तो हैंडओवर कर के जाओ और शाम को भी आधे घंटे ज्यादा रुक के जाओ। अगली शिफ्ट वाले गार्ड को हैंडओवर कर के जाओ। बताइए 12 घंटे की जगह अब 13 घंटे रुकना पड़ता है।”

दिल्ली-एनसीआर रेजिडेंट सोसाइटी में काम करने वाले कई निजी सुरक्षा गार्डों के बीच निराशा एक आम बात है। गाजियाबाद में जीएच 7 के एक गार्ड संतोष यादव ने बताया “हमारा जीवन जानवरों से भी बदतर है। बिना कोई साप्ताहिक छुट्टी के 12 घंटे का काम है। कभी-कभी रात की ड्यूटी होती है, कभी-कभी दिन की शिफ्ट होती है। अगर आप आधे घंटे भी देरी से आए तो वे तुरंत पैसा काट लेते हैं।”

यादव और किशोर उन 50 लाख से अधिक सुरक्षाकर्मी में से एक हैं जो वर्तमान में प्राइवेट सिक्योरिटी सर्विस में काम करते हैं। उत्तर प्रदेश में, 1,368 पंजीकृत सुरक्षा एजेंसियां ​​हैं वहीं दिल्ली में 250 से अधिक हैं। एम्प्लॉयर्स और एजेंसियां ​​जो गार्ड की आपूर्ति करती हैं, असहाय नौकरी चाहने वालों का शोषण करने के लिए कानूनी खामियों का उपयोग करती हैं। श्रम कानून विशेषज्ञ रवि सिंघानिया का कहना है की यह काफी हद तक छोटा और असंगठित क्षेत्र है जो इसे संभाल रहा है।

निजी सुरक्षा एजेंसियां ​​विनियमन अधिनियम 2005 (PSARA) के बावजूद, प्रवेश बाधा कम है और लाइसेंस के नवीकरण में भ्रष्टाचार और सरकारी अक्षमता है। यह एक ऐसी स्थिति है जहां छोटे व्यवसाय, लागत-कटौती के हिस्से के रूप में और कम लागत पर ग्राहकों को सेवाएं प्रदान करने के लिए, श्रम कानूनों का पालन करने से बचते हैं। बड़ी मल्टी नेशनल कंपनियां मुनाफे के लिए ऐसा करते हैं।

पूरी ग्राउंड रिपोर्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गोवा के नए मुख्यमंत्री बने प्रमोद सावंत, साथ में मिले दो डिप्टी सीएम
2 प्रमोद सावंत होंगे गोवा के अगले मुख्यमंत्री, सहयोगी दलों से दो उपमुख्यमंत्री बनाने पर भी सहमति- सूत्र
3 PNB Fraud: कभी भी गिरफ्तार हो सकता है नीरव मोदी, ब्रिटेन की अदालत ने जारी किया अरेस्ट वारंट