ताज़ा खबर
 

जयशंकर के रहते मीटिंग में नहीं आए पाकिस्तानी विदेश मंत्री, कहा- कश्मीर के कसाई के साथ नहीं बैठ सकता; भारत ने बताया ड्रामा

भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर के बैठक से निकल जाने के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी जब बैठक में पहुंचे और मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि "क्या आपको लगता है कि मैं कश्मीर के कसाई के साथ बैठूंगा?"

भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर। (AP/PTI)

गुरुवार को सार्क देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक न्यूयॉर्क में आयोजित हुई। इस बैठक में भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर ने भी शिरकत की, लेकिन गौरतलब है कि जयशंकर के मीटिंग में रहने के दौरान पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी बैठक में नहीं पहुंचे। जब भारतीय विदेश मंत्री बैठक से चले गए उसके कुछ देर बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री बैठक में शामिल हुए।

भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर के बैठक से निकल जाने के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी जब बैठक में पहुंचे और मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि “क्या आपको लगता है कि मैं कश्मीर के कसाई के साथ बैठूंगा?” वहीं भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर ने ट्वीट कर आतंकवाद पर निशाना साधा और सार्क देशों के बीच संबंधों पर लिखा कि “हमारी कहानी सिर्फ मौकों को चूकने की नहीं है, बल्कि जानबूझकर राह में रोड़े अटकाने की भी है। आतंकवाद भी उनमें से एक है।”

“हमारा मानना है कि आतंकवाद का खात्मा करने की शर्त ना सिर्फ सहयोग बढ़ाने में मददगार होगी, बल्कि हमारे क्षेत्र के सर्वाइवल में भी मददगार होगी।” वहीं पाकिस्तान के विदेश मंत्री के बयान पर एक भारतीय अधिकारी ने कहा कि ‘अब इस तरह का ड्रामा काम नहीं करेगा और सार्क प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए पाकिस्तान को अनुकूल वातावरण बनाना होगा।’

जयशंकर न्यूयॉर्क के वेस्टइन होटल में आयोजित हुए सार्क विदेश मंत्रियों की बैठक में दोपहर 1.01 बजे शामिल हुए। 1.19 बजे पाकिस्तान की सत्ताधारी पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ ने ट्वीट कर कहा कि ‘विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सार्क काउंसिल ऑफ मिनिस्टर्स में भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर के बयान का बहिष्कार करने का फैसला किया है।’

जयशंकर दोपहर में 1.48 मीटिंग से निकल गए। इसके बाद 1.54 बजे पाकिस्तानी विदेश मंत्री सार्क काउंसिल ऑफ मिनिस्टर्स में शामिल हुए। हालांकि पाकिस्तान के डीजी (साउथ एशिया) और प्रवक्ता मोहम्मद फैसल बैठक के दौरान पूरे वक्त शामिल रहे। उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 के प्रावधान हटाए जाने के बाद से भारतीय और पाकिस्तान के विदेश मंत्री किसी बहुपक्षीय बैठक में शामिल हो रहे थे।

इससे पहले कॉमनवेल्थ फॉरेन की बैठक में दोनों नेताओं की मुलाकात हुई थी, लेकिन यह बैठक जुलाई में हुई थी। बता दें कि आज पीएम मोदी यूएन जनरल असेंबली में अपना संबोधन देंगे।

Next Stories
1 Hamirpur, Pala, Dantewada, Badharghat Election Results 2019 Updates: यूपी और त्रिपुरा में BJP जीती, केरल में लेफ्ट और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस का कब्जा
2 पीएफ में हिस्सेदारी कम करना चाहती है सरकार! यूनियंस का आरोप- निजी क्षेत्र को फायदा पहुंचाने की कोशिश
3 चंदा कोचर और रिलायंस से जुड़े मामलों की जांच कर रही आयकर अधिकारी के दफ्तर में तोड़फोड़, कई फाइलें गायब
ये पढ़ा क्या?
X