जयशंकर-डोभाल को मोदीकाल में दी गई छूट, पर क्या दोनों गड़बड़ियों के लिए देश से मांगेंगे माफी?- BJP सांसद ने पूछा

बीजेपी सांसद ने आगे एक यूजर के कमेंट का जवाब देते हुए कहा, मैं इकनॉमी और विदेश नीति पर मोदी की नीतियों का विरोधी हूं। मैं इस मसले पर किसी भी जिम्मेदार व्यक्ति से चर्चा के लिए तैयार हूं। क्या आपने कभी पार्टिसिपेट्री डेमोक्रेसी (हिस्सेदारी वाले लोकतंत्र) के बारे में सुना है? मोदी भारत के राजा नहीं हैं।

pm modi, ajit doval, s jaishankar
एनएसए अजित डोभाल, पीएम नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने केंद्रीय विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल की कार्यशैली को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने इसके अलावा यह भी दावा किया कि बीजेपी के फायरब्रांड नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समकक्ष राजनेताओं पर यकीन नहीं करते।

ये बातें उन्होंने शनिवार (14 अगस्त, 2021) को एक ट्वीट के जरिए कहीं। उन्होंने लिखा, “क्या जयशंकर और डोभाल की नौकरशाह जोड़ी भारत को अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य में लाने वाली गड़बड़ी के लिए कभी देश से माफी मांगेंगे? उन्हें खुली छूट इसलिए दी गई, क्योंकि मोदी समकक्ष स्तर के राजनेताओं पर नहीं बल्कि नेताओं पर भरोसा करते हैं। अब हम अपने सभी पड़ोसियों के साथ गड़बड़ कर रहे हैं।”

स्वामी के इस ट्वीट पर @blittzzkrieg के हैंडल से लिखा गया, “मैं आपका बड़ा फैन हूं। अगर आप मोदी और सरकार की कुछ गलत करने पर आलोचना करते तो मैं आपका समर्थन करता। पर आपका हर ट्वीट उनके खिलाफ होता है। ऐसा लगता है कि आप सिर्फ इसलिए मोदी विरोधी हैं, क्योंकि उन्होंने आपको वह मंत्रालय नहीं दिया, जो आप चाहते थे।”

इस पर बीजेपी सांसद ने जवाब दिया- मैं इकनॉमी और विदेश नीति पर मोदी की नीतियों का विरोधी हूं। मैं इस मसले पर किसी भी जिम्मेदार व्यक्ति से चर्चा के लिए तैयार हूं। क्या आपने कभी पार्टिसिपेट्री डेमोक्रेसी (हिस्सेदारी वाले लोकतंत्र) के बारे में सुना है? मोदी भारत के राजा नहीं हैं।

@DeeepakVaidya ने आगे लिखा, “सच्चे देशभक्त के नाते क्या आपको नहीं लगता कि आप सीधे पीएम ऑफिस जाएं और वहां जाकर उनसे (मोदी) से सीधे बात करें।” स्वामी ने जवाब दिया, “मैंने 2014 से 2017 के बीच ऐसा करने के प्रयास किए थे।”

@Prahlad_Misra ने लिखा, “सुब्रमण्यम स्वामी के विचार सर्वथा सत्य और प्रमाणिक हैं। आज हिंदुस्तान पूरी दुनिया में अलग-थलग हो गया है। एशिया में तो बिल्कुल अकेला। राजनीतिक रूप से कमजोर, आर्थिक रूप से जर्जर की स्थिति हिंदुस्तान के लिए दूरगामी समस्या उत्पन्न करेगी। गंभीर चिंतन और चिंता का विषय है।”

@SANJIVGUPTA1973 ने ट्वीट किया, “इतनी समझदारी और दूरदर्शी होते हुए भी विपक्ष इतनी विषम परिस्थिति समझते हुए भी अपना पूरा जोर भारत सरकार को सहयोग की जगह उखाड़ने का मौका तलाश रहा है।” @harishjharia ने स्वामी को टैग करते हुए लिखा, “आप अपनी छवि और सम्मान मेरे सरीखे देशभक्तों के सामने क्यों खराब कर रहे हैं? कृपया खुद को काबू में रखें।”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।