पांचजन्‍य, ऑर्गनाइजर के स्‍टाफ ने सेलरी बढ़वाने के लिए RSS प्रमुख को भेजी चिट्ठी, संघ करता रहा है संबंध से इनकार

दो दिसंबर को लिखी गई इस चिट्ठी की शुरुआत कुछ इस तरह होती है- हम भारत प्रकाशन लिमिटेड परिवार के सदस्‍य, स्‍टाफ और ऑर्गनाइजर व पांचजन्‍य में काम करने वाले आपका ध्‍यान अपनी मुश्किलों की ओर आकर्षित कराना चाहते हैं। इसे अन्‍यथा न लें।

mohan bhagwat, RSS chief Mohan Bhagwat, Jawaharlal Nehru University, JNU row, anti india slogans, kanhaiya kumar, BJP, bharat mata ki jai, mohan bhagwat JNU row, मोहन भागवत, आरएसएस, जेएनयू विवाद पर बोले मोहन भागवत, भारत माता की जय
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत (पीटीआई फोटो)

पांचजन्‍य और ऑर्गनाइजर आरएसएस के जर्नल हैं। यह बात एक बार फिर साबित हुई है। इन दोनों जर्नल में काम करने वाले लोगों ने वेतन बढ़ाने और कुछ अन्‍य सुविधाओं की मांग करते हुए आरएसएसस के सरसंघचालक मोहन भागवत को चिट्ठी लिखी है। इसमें ये जर्नल प्रकाशित करने वाली भारत प्रकाशन लिमिटेड (बीपीएल) के प्रबंधन पर गलत सलूक करने और कम पैसे देने का आरोप लगाया गया है। आरएसएस हमेशा इन जर्नल और इसकी संपादकीय नीति से अपना जुड़ाव होने से इनकार करता रहा है। दो दिसंबर को लिखी गई इस चिट्ठी की शुरुआत कुछ इस तरह होती है- हम भारत प्रकाशन लिमिटेड परिवार के सदस्‍य, स्‍टाफ और ऑर्गनाइजर व पांचजन्‍य में काम करने वाले आपका ध्‍यान अपनी मुश्किलों की ओर आकर्षित कराना चाहते हैं। इसे अन्‍यथा न लें। चिट्ठी पर भारत प्रकाशन लिमिटेड के सभी कर्मचारियों के दस्‍तखत हैं। इसकी कॉपी मोहन भागवत के नीचे के अधिकारियों को भी भेजी गई है। इसमें लिखा गया है कि माली हालत अच्‍छी होने के बावजूद कर्मचारियों की सैलरी नहीं बढ़ाई जा रही।

बीपीएल की स्‍थापना इन जर्नल के प्रकाशन के लिए ही की गई थी। लेकिन आरएसएस इस बात से इनकार करता रहा है कि इन जर्नल से उसका सीधा जुड़ाव है। फिर इसके कर्मचारियों ने नागपुर में संघ प्रमुख को‍ चिट्ठी क्‍यों भेजी? इसके जवाब में बीपीएल के जेनरल मैनेजर ने कहा, यह उनका अधिकार है। वे किसी को भी चिट्ठी भेज सकते हैं। वे हमारे पास आएंगे तो हम उनकी समस्‍याओं को सुनेंगे।

Next Story
जम्मू-कश्मीर: घट रहा बाढ़ का पानी, लाखों लोग को अब भी मदद की दरकार