ताज़ा खबर
 

बीजेपी से क्‍यों नाराज है दलित समुदाय?, RSS समर्थित थिंक टैंक के ‘दलित चिंतन’ में जुटेंगे शीर्ष नेता

इन बैठकों में भाजपा सांसद, पार्टी पदाधिकारी और दलित समुदाय से जुड़े करीब 50 प्रतिनिधि शिरकत कर सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, इन बैठकों में चर्चा का केन्द्र इस बात पर रहेगा कि दलितों में पार्टी के प्रति गुस्सा क्यों है?

आरएसएस समर्थित थिंक टैंक आयोजित करेगा दलित चिंतन बैठक। (express photo)

जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहा है, वैस-वैसे राजनैतिक पार्टियों ने अपने वोटबैंक की सुध लेना शुरु कर दिया है। भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार को दलितों से जुड़े कई मुद्दों पर आलोचना का शिकार होना पड़ा था। यही वजह है कि अब सरकार यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि देश का दलित वोटर उनसे क्यों नाराज है? इस मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ द्वारा समर्थित थिंक टैंक इंडिया फाउंडेशन ने दलित चिंतन के मुद्दे पर एक बैठक बुलाने का फैसला किया है। यह बैठक जल्द ही बुलायी जा सकती है और यह बैठक 2 अलग-अलग सेशन में आयोजित की जाएगी।

इस बैठक की अध्यक्षता केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और पार्टी के महासचिव राम माधव करेंगे। न्यूज 18 की एक खबर के अनुसार, इस बैठक का एक सेशन राजनाथ सिंह के अकबर रोड स्थित आधिकारिक आवास पर और दूसरा सेशन तीन मूर्ति भवन स्थित नेहरु म्यूजियम में आयोजित किया जाएगा। इन बैठकों में भाजपा सांसद, पार्टी पदाधिकारी और दलित समुदाय से जुड़े करीब 50 प्रतिनिधि शिरकत कर सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, इन बैठकों में चर्चा का केन्द्र इस बात पर रहेगा कि दलितों में पार्टी के प्रति गुस्सा क्यों है? इस ‘दलित चिंतन’ में शामिल होने वाले कई दलित नेताओं का मानना है कि इन बैठकों में रोहित वेमुला के मुद्दे और उसे पार्टी द्वारा जिस तरह हैंडल किया गया, उस पर चर्चा हो सकती है।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 24790 MRP ₹ 30780 -19%
    ₹4000 Cashback
  • Apple iPhone 7 Plus 128 GB Rose Gold
    ₹ 61000 MRP ₹ 76200 -20%
    ₹7500 Cashback

कई लोगों का मानना है कि हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर अप्पा राव द्वारा उठाए गए कदम और इसके साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद पर नेशनल सिक्योरिटी एक्ट के तहत की गई कारवाई जैसे मुद्दे इस बैठक में चर्चा का मुख्य मुद्दा रहेंगे। इसके साथ ही कुछ लोगों ने यूजीसी द्वारा फैकल्टी कोटा में फेरबदल करने पर भी अपनी चिंता जाहिर की है। सूत्रों के अनुसार, इस बैठक में पूर्व केन्द्रीय मंत्री संजय पासवान, भाजपा उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे, भाजपा प्रवक्ता और पूर्व सासंद डॉ. बिजे शंकर शास्त्री भी शामिल हो सकते हैं। भाजपा सांसद उदित राज, जो संसद में दलितों से जुड़े मुद्दे उठाते रहते हैं, ने भी न्यूज 18 से बातचीत में ‘दलित चिंतन’ बैठक की पुष्टि की है। गौरतलब है कि दलित चिंतन बैठक ऐसे समय में आयोजित की जा रही है, जब मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में विधानसभा चुनाव होने हैं। इसके बाद लोकसभा चुनाव भी नजदीक ही हैं। बता दें कि हाल ही में भाजपा सरकार ने एससी/एसटी अत्याचार निवारण एक्ट में बदलाव के खिलाफ अध्यादेश लाकर दलितों के बीच सकारात्मक संदेश भेजने की कोशिश भी की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App