ताज़ा खबर
 

RSS ने कहा- कानून के खिलाफ जाकर नहीं बनेगा राम मंदिर, निर्माण के लिए डेडलाइन तय नहीं की

राम जन्‍मभूमि न्‍यास के सदस्‍य और पूर्व बीजेपी सांसद राम विलास वेदांती ने कहा था कि‍ आरएसएस चाहती है कि अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले हो जाए।
Author लखनऊ | December 24, 2015 20:25 pm
राम मंदिर निर्माण का मामला दोबारा से उस वक्‍त तूल पकड़ा, जब संगमरमर के पत्‍थरों की नई खेप हाल ही में अयोध्‍या पहुंची।

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के सह प्रचार प्रमुख जे नंदकुमार ने गुरुवार को कहा कि राम मंदिर राम जन्‍मभूमि पर जरूर बनेगा, लेकिन उनका संगठन कानून व्‍यवस्‍था के खिलाफ जाकर कोई भी कदम न उठाने के प्रति‍ कटिबद्ध है। नंदकुमार ने यह भी कहा कि आरएसएस ने मंदिर निर्माण के लिए कोई डेडलाइन तय नहीं की है। बता दें कि अयोध्‍या में राम मंदिर बनाने के लिए वहां पत्‍थर तराशे जाने का मामला बुधवार को विपक्ष ने राज्‍यसभा में उठाया था। विपक्ष का आरोप है कि यूपी में 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले यह आरएसएस और बीजेपी की ध्रुवीकरण करने की साजिश है। वहीं, राम जन्‍मभूमि न्‍यास के सदस्‍य और पूर्व बीजेपी सांसद राम विलास वेदांती ने कहा था कि‍ आरएसएस चाहती है कि अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले हो जाए।
क्‍या कहा आरएसएस ने?
नंदकुमार ने कहा, ”वह जगह राम जन्‍मभूमि है और यह एक तथ्‍य है। वहां भविष्‍य में मंदिर बनेगा। हाई कोर्ट ने अपना फैसला दिया है कि वह जगह राम जन्‍मभूमि है, लेकिन कुछ लोग इससे सहमत नहीं हैं और वे ऊंची अदालत का दरवाजा खटखटाने गए। इस देश का हित चाहने वाला हर शख्‍स यह चाहता है कि वहां राम मंदिर बने। लेकिन समस्‍या इसके बनने के वक्‍त को लेकर है। आरएसएस कभी कोई भी चीज कानून व्‍यवस्‍था या संविधान के खिलाफ जाकर करने में भरोसा नहीं रखता।” द इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में नंदकुमार ने कहा कि संगठन ने मंदिर निर्माण की शुरुआत को लेकर कोई तारीख तय नहीं की। जहां तक संसद में इससे जुड़े बिल को पेश करने का मामला है, यह मामला सरकार से जुड़ा है और यह आरएसएस के हाथ में नहीं है। बता दें कि राम मंदिर का मामला दोबारा से उस वक्‍त उछला, जब रविवार को राजस्‍थान से गुलाबी संगमरमर की नई खेंप अयोध्‍या पहुंची। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए सीएम अखिलेश यादव ने अधिकारियों के साथ बैठक की और उन्‍हें शांति व्‍यवस्‍था कायम रखने के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.