ताज़ा खबर
 

NCERT की क़िताबों में एमएफ हुसैन और मुग़लों का चैप्टर, RSS के संगठन ने किया विरोध, कहा- महिमामंडन न करें

एनसीईआरटी के पूर्व निदेशक जेएस राजपूत, एनसीईआरटी के शंकर शरण, एसएसयूएन और आरएसएस से जुड़े भारतीय शिक्षा मंडल ने समिति के समक्ष अपना पक्ष रखा। इसमें पाठ्यपुस्तक में सुधार और "गैर-ऐतिहासिक तथ्यों के संदर्भों को हटाने" पर सुझाव मांगे गए।

NCERTएनसीईआरटी के पूर्व निदेशक जे एस राजपूत, एनसीईआरटी के शंकर शरण, एसएसयूएन और आरएसएस से जुड़े भारतीय शिक्षा मंडल (बीएसएम) ने मंगलवार को समिति के समक्ष अपना पक्ष रखा।

आरएसएस से जुड़ी शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास (SSUN) ने मंगलवार को एक संसदीय स्थायी समिति के समक्ष NCERT के स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में “विकृतियों” को चिह्नित किया। इसमें कक्षा 11 की हिंदी पाठ्यपुस्तक में दिवंगत कलाकार एमएफ हुसैन का एक अध्याय और कक्षा 12 इतिहास की पाठ्यपुस्तक में मुगल शासकों का पूजा स्थलों के निर्माण और रखरखाव के लिए अनुदान देने का संदर्भ दिया गया था।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शिक्षा शाखा, विद्या भारती के पूर्व प्रमुख दीना नाथ बत्रा की अध्यक्षता वाले न्यास को मंगलवार को शिक्षा, महिलाओं, बच्चों, युवाओं और खेल संबंधी संसदीय स्थायी समिति की बैठक में आमंत्रित किया गया था। इसमें पाठ्यपुस्तक में सुधार और “गैर-ऐतिहासिक तथ्यों के संदर्भों को हटाने और पाठ्यपुस्तकों से हमारे राष्ट्रीय नायकों के बारे में विकृतियों” पर सुझाव मांगे गए।

राज्यसभा सदस्य विनय सहस्रबुद्धे पैनल के प्रमुख हैं। बैठक में स्कूल शिक्षा, एनसीईआरटी (NCERT) और सीबीएसई (CBSE) विभाग के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। एनसीईआरटी के पूर्व निदेशक जेएस राजपूत, एनसीईआरटी के शंकर शरण, एसएसयूएन और आरएसएस से जुड़े भारतीय शिक्षा मंडल (बीएसएम) ने मंगलवार को समिति के समक्ष अपना पक्ष रखा।

समिति की अगले सप्ताह फिर से बैठक होने की संभावना है। एसएसयूएन और बीएसएम को भेजे गए निमंत्रण के मुताबिक “समिति ने सोशल मीडिया पर इस विषय पर प्रतिक्रिया मांगी थी। साथ ही इसके माध्यम से कुछ संगठनों को व्यक्तिगत रूप से सुनने का अनुरोध किया गया था।”

पैनल में अपनी प्रस्तुति में SSUN ने कक्षा 11 की हिंदी पाठ्यपुस्तक “अंट्रल” में चित्रकार एमएफ हुसैन के एक अध्याय पर आपत्ति जताई। न्यास ने महसूस किया कि छात्रों के लिए ऐसे व्यक्ति के जीवन का अध्ययन करना अनुचित है, जिस पर अश्लीलता को बढ़ावा देने और धार्मिक भावनाओं को अपमानित करने का आरोप लगा हो। सुप्रीम कोर्ट ने अश्लीलता के आरोपों पर हुसैन के अभियोजन की अनुमति देने से इनकार कर दिया था।

SSUN ने मुग़ल शासकों द्वारा अपने गैर-मुस्लिम विषयों के प्रति एक लचीली नीति अपनाने और 12 वीं कक्षा के इतिहास की पाठ्यपुस्तक में “भारतीय इतिहास में विषय-वस्तु” शीर्षक से युद्ध के दौरान क्षतिग्रस्त मंदिरों की मरम्मत के लिए अनुदान देने वाले अध्याय का यह कहकर विरोध किया कि ये वाक्य विदेशी आक्रमणकारियों के महिमामंडन करते हैं।

आरएसएस संबद्ध ने कक्षा 6 इतिहास की पाठ्यपुस्तक के अध्याय 5 में “वर्ण” पर दिए गए खंड पर भी आपत्ति जताई है, जिसमें कहा गया है कि “पुजारियों ने लोगों को चार समूहों में विभाजित किया है, जिन्हें वर्ण कहा जाता है” और कहा कि “पुजारियों ने भी कहा कि इन समूहों पर निर्णय “जन्म के आधार पर” लिया गया था। न्यास ने पूछा कि क्या कक्षा 6 के छात्रों के मन में एक वर्ग के प्रति शत्रुता को बढ़ावा देना उचित है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ML खट्टर के कार्यक्रम में तोड़फोड़ के बाद अमित शाह ने कहा, किसान कानूनों के समर्थन में न हों आयोजन
2 वायुसेना के लिए 83 तेजस विमानों की खरीद को मंजूरी
3 ओवैसी ने फूंका चुनावी बिगुल तो बोले बीजेपी सांसद, बंगाल और यूपी में हमारी मदद करेंगे
यह पढ़ा क्या?
X