ताज़ा खबर
 

कार्यकर्ताओं को नहीं पसंद आ रही संघ की ‘नई ड्रेस’, बोले- हाफ पैंट ज्यादा अच्छी थी

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) ने विजयदशमी के दिन अपनी ड्रेस में हाफ पैंट की जगह फुल पैंट को शामिल किया। लेकिन संघ के कुछ कार्यकर्ताओं को नई ड्रेस पसंद नहीं आ रही।

rss, rss uniform, rss new uniformनागपुर में विजयदशमी के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने जाता बच्चा। (Photo: PTI)

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) ने विजयदशमी के दिन अपनी ड्रेस में हाफ पैंट की जगह फुल पैंट को शामिल किया। लेकिन संघ के कुछ कार्यकर्ताओं को नई ड्रेस पसंद नहीं आ रही। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, संघ से जुड़े प्रतीक परगावकर और चिनमय देशमुख नाम के दो लड़के ड्रेस को लेकर नाखुश थे। खबर के मुताबिक, दोनों ही लड़के 11वीं क्लास के हैं। दोनों लड़के संघ से जुड़े हुए हैं और विजयदशमी के दिन महाराष्ट्र के रेशमीबाग ग्राउंड में हुई परेड में हिस्सा लेने के लिए भी पहुंचे थे। एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत करते हुए प्रतीक ने कहा कि फुल पैंट में कसरत और पेरड करना काफी मुश्किल हो रहा था। उसने हाफ पैंट को इसके मुकाबले काफी आरामदायक बताया। दोनों लड़कों ने यह भी दावा किया कि परेड में शामिल छोटे से छोटा और बड़े से बड़ा शख्स फुल पैंट को पहनकर परेड करने में मुश्किल महसूस कर रहा था। एक दूसरे शख्स ने कहा कि फुल पैंट के मुकाबले हाफ पैंट में एक्सरसाइज करना ज्यादा आसान होता था। इसके अलावा कुछ लोग नागपुर के गर्म मौसम में फुल पैंट को बिना मतलब का बता रहे हैं। हालांकि, RSS के सीनियर लोगों का कहना है कि उन्होंने फुल पैंट को रोज लगने वाली शाखाओं में जरूरी नहीं किया है। फुल पैंट सिर्फ विजय दशमी या फिर तीन साल में एक बार होने वाले खास प्रोग्राम में ही पहनने के लिए होंगी।

वीडियो: स्पीड न्यूज

गौरतलब है कि विजयदशमी के दिन संघ का स्थापना दिवस था। इस दिन संघ पूरे 91 साल का हो गया। इस मौके पर ही नई ड्रेस में हाफ पैंट की जगह फुट पैंट को शामिल किया गया था। संघ की वर्दी में यह कोई पहला बदलाव नहीं है। इससे पहले ये बदलाव हो चुके हैं

1925 में विजयदशमी को हुई थी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना। इसके दुनिया के सबसे बड़े स्वयंसेवी संस्थान होने का दावा किया जाता रहा है। 1930 में खाकी टोपी को काली टोपी में बदला था। 1940 में खाकी कमीज सफेद हुई थी। 1973 में जूतों का डिजाइन बदला था। 2011 में चमड़े की बेल्ट को ना कहा था।

Read Also: ‘अभी तो हाफ को फुल पेंट करवाया है, माइंड को भी फुल करवाएंगे, अब हथियार भी डलवायेंगे’

Next Stories
1 छुट्टी के बावजूद सुषमा स्वराज ने एक मां की गुहार पर दिलाया वीज़ा, इकलौता बेटा दे सकेगा पिता को मुखाग्नि
2 मुस्लिम लड़के की पुलिस हिरासत में मौत, व्हाट्सअप पर बीफ पर किया था ‘आपत्तिजनक’ कमेंट
3 पंपोर एनकाउंटर खत्म: तीसरे दिन मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने दो आतंकियों को किया ढेर
कोरोना:
X