ताज़ा खबर
 

वरिष्ठ आरएसएस प्रचारक को यूनिवर्सिटी के रिसर्च कार्यक्रम में बनाया चीफ गेस्ट, शिक्षाविदों ने जतायी नाराजगी

दिल्ली यूनिवर्सिटी की एग्जीक्यूटिव काउंसिल के मेंबर राजेश झा ने कहा कि हरियाणा यूनिवर्सिटी अंबेकर को किसी और कार्यक्रम में आमंत्रित कर सकती थी लेकिन रिसर्च मैथेडोलॉडी कार्यक्रम में उन्हें बुलाना ठीक नहीं था, जो कि पूरी तरह से शैक्षिक कार्य था।

HARYANA, rss, आरएसएसहरियाणा यूनिवर्सिटी द्वारा आरएसएस प्रचारक को आमंत्रित करने पर शिक्षाविदों में नाराजगी।

सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ हरियाणा, महेंद्रगढ़ ने हाल ही में कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया था। इस आयोजन में रिसर्च मैथेडोलॉजी कॉन्फ्रेंस में बतौर चीफ गेस्ट आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक सुनील अंबेकर को आमंत्रित किया था। सुनील अंबेकर ने कॉन्फ्रेंस में रिसर्च के उद्देश्यों के बारे में अपनी स्पीच में चर्चा की। हालांकि कई शिक्षाविद इस बात से खुश नहीं बताए जा रहे हैं। कई शिक्षाविदों का कहना है कि रिसर्च का विषय ऐसा है, जिसमें तकनीकी तौर इसके टूल्स आदि पर चर्चा होनी चाहिए थी।

बता दें कि यूनिवर्सिटी में इस कॉन्फ्रेंस का आयोजन भारत सरकार की एजेंसी इंडियन काउंसिल ऑफ सोशल साइंस एंड रिसर्च के सहयोग से किया गया था। अंबेकर जूलोजी में एमएससी हैं लेकिन उनके पास रिसर्च की कोई डिग्री नहीं है। द टेलीग्राफ की एक रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली यूनिवर्सिटी की एग्जीक्यूटिव काउंसिल के मेंबर राजेश झा ने कहा कि हरियाणा यूनिवर्सिटी अंबेकर को किसी और कार्यक्रम में आमंत्रित कर सकती थी लेकिन रिसर्च मैथेडोलॉडी कार्यक्रम में उन्हें बुलाना ठीक नहीं था, जो कि पूरी तरह से शैक्षिक कार्य था।

राजेश झा के अनुसार, इस कार्यक्रम में किसी जाने माने विशेषज्ञ को आमंत्रित किया जाना चाहिए था। रिपोर्ट के अनुसार, इसी तरह कई अन्य शिक्षाविदों ने भी रिसर्च कॉन्फ्रेंस में आरएसएस प्रचारक को बुलाए जाने पर आपत्ति जाहिर की।

हालांकि आरएसएस प्रचारक सुनील अंबेकर ने उन्हें आमंत्रित करने के यूनिवर्सिटी के फैसले का बचाव किया। अंबेकर ने कहा कि हम एकीकृत एकेडेमिक्स के दौर में जी रहे हैं ना कि आइसोलेटेड शिक्षाविद का। आज समाज और यूनिवर्सिटीज के बीच एकीकरण की आवश्यकता है।

रिपोर्ट के अनुसार, यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन ने देश के विश्वविद्यालयों को कहा है कि वह समय समय पर सर्जिकल स्ट्राइक डे और योगा डे आदि कार्यक्रमों का आयोजन करे। वहीं सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ हरियाणा के वीसी आरसी कुहाड ने इस मुद्दे पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 10 दिन में DRDO ने बना दिया 10,000 बेड का कोविड अस्पताल, मुआयना करने पहुंचे गृह मंत्री और रक्षा मंत्री
2 JioMeet की तारीफ करने पर घिरे NITI आयोग के सीईओ अमिताभ कांत, सोशल मीडिया पर लोग कर रहे ट्रोल
3 मोदी की तमाम बातें खारिज की जा सकती हैं, पर ये नहीं; पूरी दुनिया को सुननी चाहिए
ये पढ़ा क्या?
X