scorecardresearch

नई दिल्लीः लोग जानना चाहते हैं ताजमहल, कृष्ण जन्मभूमि और ज्ञानवापी का सच, RSS के इंद्रेश की बात पर बिफरे लोग

आरएसएस नेता के बयान पर एक यूजर ने कहा कि लोग अर्थव्यवस्था, बढ़ती कीमतों, मुद्रास्फीति, डॉलर के मूल्यों, सीमा मुद्दा, नौकरियों आदि के बारे में भी जानना चाहते हैं।

Indresh Kumar RSS, kashi, Mathura
आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार(फोटो सोर्स:ANI)।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता इंद्रेश कुमार ने ताजमहल, काशी और मथुरा को लेकर अपनी राय रखी है। उन्होंने रविवार को कहा कि लोग ताजमहल, ज्ञानवापी मस्जिद और मथुरा में स्थित कृष्ण जन्मभूमि का सच जानना चाहते हैं। इस सच का पता लगाने में अदालत को मदद करनी चाहिए। इस विवाद का फैसला बातचीत से ही होगा।

आरएसएस नेता के इस बयान पर सोशल मीडिया पर लोग बिफर गये और महंगाई, बेरोजगारी का मुद्दा उठाने लगे। एक यूजर ने प्रतिक्रिया दी कि लोग जानना चाहते हैं कि देश में पेट्रोल की कीमत 20 रुपये प्रति लीटर, घरेलू एलपीजी 200 रुपये प्रति सिलेंडर, 1 रुपये के बराबर 1 डॉलर कब होगा और आडवाणी जी पीएम कब बनेंगे?

एक और यूजर(@amol49240) ने लिखा, “लोग जानना चाहते हैं कि एलआईसी का वैल्यूएशन 40 लाख करोड़ से घटकर 6 लाख करोड़ क्यों हो गया, सरकारी भर्ती क्यों नहीं हो रही, यूपीएससी ने 1400 पदों की रिक्तियां घटाकर 700 क्यों किया, जीडीपी की विकास दर नकारात्मक क्यों है और पेट्रोल की कीमत 121 रुपये क्यों है?”

एक अन्य यूजर(@amartyasarkar86) ने लिखा, “लोग अर्थव्यवस्था, बढ़ती कीमतों, मुद्रास्फीति, डॉलर के मूल्यों, सीमा मुद्दा, नौकरियों आदि के बारे में भी जानना चाहते हैं। इन उत्तरों के साथ हमारी हेल्प करें।”

बता दें कि देश में इन दिनों ताजमहल, काशी-मथुरा मामले को लेकर काफी हलचल है। जहां इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ ने बीते गुरुवार को ताजमहल परिसर में बने 22 कमरों को खुलवाने से संबंधित याचिका को खारिज कर दिया था तो वहीं श्री कृष्ण जन्मभूमि विवाद पर 19 मई को फैसला आएगा। बता दें कि मथुरा की एक अदालत में श्री कृष्ण जन्मभूमि की 13.37 एकड़ भूमि पर स्वामित्व की मांग को लेकर याचिका दायर की गई है।

याचिका में जन्मभूमि परिसर की खुदाई कर कहा गया है कि जहां पर मस्जिद बनाई गई थी, वहां कारागार मौजूद है। उसी जगह भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था।

वहीं यूपी के वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे रविवार को भी हुआ। इस दौरान कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किये गये थे। यह सर्वे फिर से सोमवार को किया जाएगा। बता दें इस सर्वे की रिपोर्ट 17 मई को अदालत में पेश करना है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.