ताज़ा खबर
 

कोरोनाः RSS नेता ने पूछा दिल्ली में ”आग” के बीच किसी ने देखा BJP को?; राजीव तुली के बयान से संघ ने बना ली दूरी, कही ये बात

संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख सुनील अंबेकर ने कहा, "यह वक्त जरूरतमंदों की मदद करने की है, हमारा ध्यान अभी इस पर केंद्रित है। कोई व्यक्तिगत स्तर पर जो भी कह रहा है, वह संघ का आधिकारिक बयान नहीं है।"

covid-19, virus infectionनई दिल्ली के श्मशान केंद्र पर कोविड -19 पीड़ितों के लिए अंतिम संस्कार की चिता तैयार करने के लिए लकड़ी ले जाते हेल्थकेयर कार्यकर्ता। (फोटो: रॉयटर्स)

दीप्तिमान तिवारी
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) ने अपने ही साथी राजीव तुली के उस बयान से गुरुवार को दूरी बना ली, जिसमें उन्होंने दिल्ली भाजपा नेताओं के लोगों के बीच से गायब रहने पर बुधवार को सवाल उठाया था। तुली ने कहा था कि जब राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कोरोना आग बनकर कहर ढा रही है तब भाजपा के नेता और पदाधिकारी जनता के बीच से गायब हो गए हैं।

संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख सुनील अंबेकर ने कहा, “यह वक्त जरूरतमंदों की मदद करने की है, हमारा ध्यान अभी इस पर केंद्रित है कि संकट के समय हम उनके लिए किस तरह की सहायता कर सकते हैं।” उन्होंने कहा, “सभी सरकारें, दलीय राजनीतिक
निष्ठा से ऊपर उठकर अपने स्तर से जितना संभव हो रहा है, लोगों की मदद कर रही हैं। हमारा ध्यान इस पर है कि हम उनसे समन्वय बनाकर इस मुसीबत में किस तरह लोगों के लिए काम करें। कोई व्यक्तिगत स्तर पर जो भी कह रहा है, वह संघ का आधिकारिक बयान नहीं है।”

बुधवार को दिल्ली आरएसएस के राज्य कार्यकारिणी सदस्य राजीव तुली ने हिंदी में एक ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा, “दिल्ली में हर जगह आग लगी है, क्या किसी ‘दिल्ली वाले’ ने बीजेपी दिल्ली को देखा है?” BJP4Delhi कहां है? या राज्य निकाय भंग हो गया है?”

अंबेडकर ने मीडिया से वर्चुअली रूप से बात करते हुए कहा, “आरएसएस कार्यकर्ता भी सहायता प्रदान कर रहे हैं। संकट की भयावहता की तुलना में हमारे प्रयास कम दिखाई दे सकते हैं, लेकिन हम इसे पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं। समाज की संवेदनशीलता अद्भुत है, जहां लोग अपने स्वयं के जीवन के जोखिम पर काम कर रहे हैं। समाज की ताकत हमें विजय दिलाने में मदद करेगी।”

उन्होंने कहा कि संघ संकट के समय आम लोगों को 12 अलग-अलग प्रकार की सहायता प्रदान कर रहा है, जिसमें आइसोलेशन सेंटर की सुविधा, कोविद देखभाल केंद्र, जरूरतमंदों को भोजन, सरकारी अस्पतालों में अति-व्यस्त चिकित्सा कर्मचारियों को सहायता, हेल्पलाइन चलाना और डॉक्टरों के माध्यम से टेलीफोनिक परामर्श प्रदान करना शामिल है।

उन्होंने आगे बताया कि आरएसएस देश भर में 43 कोविड देखभाल केंद्र चला रहा है, जहां सभी आवश्यक सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं और आरएसएस कार्यकर्ता कोविड रोगियों के परिवारों की मदद भी कर रहे हैं। अम्बेकर ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में आरएसएस कार्यकर्ता मास्क बांट रहे हैं। कोविड रोगियों और उनके परिवारों की काउंसलिंग कर रहे हैंं और उन्हें उपचार और आधिकारिक प्रक्रियाओं के माध्यम से मार्गदर्शन दे रहे है।

Next Stories
1 Elections Exit Poll Results 2021 Live Updates: बंगाल में BJP के साथ हो सकता है ‘खेल’, अधिकतर पोल्स में TMC को बढ़त
2 डॉक्टर की टेबल पर रख दिया कोरोना मरीज का शव, कहा- लापरवाही से हुई मौत
3 जब पाकिस्तान में खुल गई थी अजीत डोभाल की पोल, बाद में करवा ली प्लास्टिक सर्जरी
ये पढ़ा क्या?
X