जय श्रीराम बोलने वालों को RSS प्रमुख मोहन भागवत की नसीहत, बोले- भरत जैसे भाई के लिए प्रेम रखना सबके लिए संभव नहीं

मोहन भागवत ने कहा कि भारत ने आदिकाल से पूरी दुनिया को सुसंस्कृत बनाने का काम किया। भारत का इरादा कभी किसी को जीतने का नहीं रहा और ना ही किसी को बदलने का रहा।

Mohan bhagawat, RSS, RSS Chief
सरसंघ संचालक मोहन भागवत(फोटो सोर्स: ANI)।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को कहा कि ‘जय श्री राम’ के नारे को हम बड़े उत्साह से लगाते हैं लेकिन हमें श्रीराम जैसा बनना भी होगा। रविवार को दिल्ली में विज्ञान भवन में आयोजित ‘संत ईश्वर सम्मान 2021’ कार्यक्रम में मोहन भागवत ने कहा कि हमें सिर्फ नारा ही नहीं बल्कि भगवान राम के बताए रास्ते पर चलना भी चाहिए।

भागवत ने कहा, “आजकल हम जय श्रीराम का नारा जोर से लगाते हैं, और लगाना भी चाहिए, इसमें बुरी बात नहीं है। लेकिन हमें श्रीराम जैसा होना भी चाहिए। लेकिन हम सोचते हैं कि वो तो भगवान थे।” उन्होंने कहा कि सामान्य व्यक्ति की प्रतिक्रिया रहती है कि भरत जैसे भाई पर प्रेम करना श्रीराम ही करें, हम तो नहीं कर सकते।

भारतीय सभ्यता के बने रहने को लेकर मोहन भागवत ने कहा कि भारतीय सभ्यता सभी को साथ लेकर चलने में विश्वास रखती है। इसी वजह से कई बाधाओं के बाद भी यह बची रही और आगे बढ़ती रही।

उन्होंने कहा, “वेदों के समय से एक परंपरा है जो मानती है कि पूरा भारत आपका है। इस भूमि के प्रति यह भाव जिसे हम अपनी मातृभूमि और यहां जन्म लेने वालों को अपने भाई-बहन के रूप में मानते हैं। अगर हम इस करुणा के साथ काम करते हैं तो कोई भी चीज भारत को वांछित गति से बढ़ने से नहीं रोक सकती है।

इसके अलावा भारत के विकास को लेकर संघ प्रमुख ने कहा कि आजादी के बाद देश को जिस तरह से आगे बढ़ना चाहिए था, वह नहीं बढ़ पाया। भागवत ने कहा, हम देश को आगे ले जाने की दिशा में आगे चलेंगे तो खुद भी आगे बढ़ेंगे और 15-20 सालों में यह जरूर अपेक्षित विकास होगा।

बता दें कि आरएसएस का विरोध करने वाले इस संगठन पर सांप्रदायिकता को बढ़ावा देने का आरोप लगाते रहते हैं, ऐसे में आरएसएस प्रमुख ने कहा कि भारतीय समाज किसी की आस्था के आधार पर उसका विरोध नहीं करता है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट