ताज़ा खबर
 

सरकार, प्रशासन व लोगों की लापरवाही से बढ़े मामले, कोरोना महामारी के खिलाफ चेताते हुए मोहन भागवत ने कहा

भागवत ने इकबाल की पंक्तियां ‘कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी’ उद्धत की और कहा कि विषाणु छुपा होगा, रूप बदलने वाला होगा, फिर भी हम जीतेंगे। उन्होंने कहा कि मन अगर थक गया, तो दिक्कत होगी। जैसे सांप के सामने चूहा अपने बचाव के लिए कुछ नहीं करता। ऐसा नहीं होने देना है।

Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली | Updated: May 16, 2021 6:11 AM
संघ प्रमुख मोहन भागवत ने देश में कोरोना की स्थिति पर ये बयान दिया। (एक्सप्रेस फोटो)।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने लोगों से कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में एकजुट और सकारात्मक बने रहने की अपील करते हुए शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस की पहली लहर के बाद सरकार, प्रशासन और जनता के गफलत में पड़ने के कारण वर्तमान स्थिति का सामना करना पड़ रहा है।

‘पोजिटिविटी अनलिमिटेड’ व्याख्यान शृृंखला को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा, ‘इस चुनौतीपूर्ण समय में एक दूसरे पर अंगुली उठाने की बजाए हमें एकजुट रहना होगा और एक टीम की तरह कार्य करना होगा।’ उन्होंने कहा, ‘हम इस परिस्थिति का सामना कर रहे हैं क्योंकि सरकार, प्रशासन और जनता, सभी कोविड की पहली लहर के बाद लापरवाह हो गए जबकि डाक्टरों द्वारा संकेत दिए जा रहे थे।’ सरसंघचालक ने कहा कि अब तीसरी लहर की बात हो रही है। ‘लेकिन हमें डरना नहीं है। हम चट्टान की तरह एकजुट रहेंगे।’ भागवत ने कहा कि सभी को सकारात्मक रहना होगा और मौजूदा परिस्थिति में स्वयं को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाने के लिए सावधानियां बरतनी होंगी। उन्होंने कहा कि यह एक दूसरे पर अंगुली उठाने का उपयुक्त समय नहीं है और वर्तमान परिस्थितियों में तर्कहीन बयान देने से बचना चाहिए।

भागवत ने कोरोना वायरस संक्रमण के संदर्भ में कहा, ‘जब विपत्ति आती है तो भारत के लोग जानते हैं कि सामने जो संकट है, उसे चुनौती मानकर संकल्प के साथ लड़ना है।’ उन्होंने कहा, ‘लोग जानते हैं कि यह हमें डरा नहीं सकती।

हमें जीतना है। जब तक जीत न जाएं तब तक लड़ना है।’ उन्होंने कहा, ‘थोड़ी सी गफलत हुई। शासन-प्रशासन और लोग। सभी गफलत में आ गए, इसलिए यह आया।’ मोहन भागवत ने द्वितीय विश्व युद्ध के समय इंग्लैंड की स्थिति का जिक्र किया, जब ऐसा लग रहा था कि सब कुछ उसके विपरीत जा रहा हो।

भागवत ने तब के प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल को उद्धृत किया जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘इस कार्यालय में कोई निराशावादी नहीं है, हमें हार की संभावना में कोई रूचि नहीं है, इसका कोई अस्तित्व नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘ ऐसे ही इस परिस्थिति में हमें साहस नहीं छोड़ना है। हमें संकल्पबद्ध रहना है।’

Next Stories
1 गांवों में घर-घर की जाए जांच, उच्चस्तरीय बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा
2 दिल्ली में टीका लगवाना लोगों के लिए बना मुसीबत
3 शनिवार को सबसे ज्यादा मामले कर्नाटक में, लगातार चौथे दिन कोरोना के केसों में कमी
ये पढ़ा क्या?
X