ताज़ा खबर
 

RSS: भारत को ‘मातृभूमि’ नहीं मानने वाले चाले जाएं देश छोड़कर

आरएसएस ने यह बयान ऐेसे समय में दिया है जब ओवैसी ने हाल ही में कहा था कि यदि उनके गले पर छुरा भी रख दिया जाए तो वह ‘भारत माता की जय’ नहीं बोलेंगे।
Author जम्मू | March 16, 2016 22:06 pm
Hindu group Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) on the occasion of Vijay Dashmi at Kishan kunj in New Delhi Thursday, Oct. 22, 2015. Express Photo By Amit Mehra

‘भारत माता की जय’ के नारे लगाने से एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी के इनकार को लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए आरएसएस ने बुधवार को कहा कि भारत को अपनी ‘मातृभूमि’ नहीं मानने वालों को देश छोड़कर चले जाना चाहिए। जम्मू-कश्मीर में आरएसएस के प्रांत संघ चालक ब्रिगेडियर सुचेत सिंह ने यहां कहा, ‘‘वह (ओवैसी) ऐसे अवांछित बयान दे रहे हैं । यदि कोई शख्स हमारे देश को अपनी मातृभूमि नहीं मानता है तो उसे इस देश को छोड़कर अपनी पसंद की जगह पर चले जाना चाहिए ।’’

आरएसएस ने यह बयान ऐेसे समय में दिया है जब ओवैसी ने हाल ही में कहा था कि यदि उनके गले पर छुरा भी रख दिया जाए तो वह ‘भारत माता की जय’ नहीं बोलेंगे। सिंह ने कहा कि यह ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ है कि ऐसे लोग संसद के लिए चुने जाते हैं । यह पूछे जाने पर कि क्या आरएसएस ओवैसी के खिलाफ कार्रवाई चाहता है, तो उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर कार्रवाई की जानी चाहिए और इस बाबत सोचने वाले लोग हैं।

इसके साथ ही संघ ने केंद्र सरकार को नसीहत देते हुए कहा कि सरकार को उकसावे वाली बातों में नहीं आना चाहिए और पाकिस्तान के साथ संवाद जारी रखना चाहिए। इसके साथ ही उसने अलगाववादियों का मजाक उड़ाया जिन्हें पाकिस्तान ने दिल्ली में अपने उच्चायोग में ‘पाकिस्तान दिवस’ पर आमंत्रित किया है।

ब्रिगेडियर सुचेत सिंह ने कहा, ‘‘वे नहीं चाहते हैं कि हम उस देश के साथ दोस्ताना हों। हम अपने पड़ोसियों के साथ अच्छा संबंध चाहते हैं। हमें ऐसे मूर्ख लोगों की परवाह करने के बजाय अपने लक्ष्यों एवं उद्देश्यों पर अपना ध्यान लगाए रखना चाहिए। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें न्यौता दिए जाने की ऐसी भड़काउ बातों का हमारे लिए कोई खास मायने नहीं है। हमें पाकिस्तान के साथ वार्ता सकारात्मक तरीके से जारी रखनी चाहिए। ’’ कट्टरपंथी अलगाववादी नेता सैयद अली गिलानी और आसिया अंद्राबी समेत कई अलगाववादी नेताओं को पाकिस्तान ने 23 मार्च को दिल्ली में अपने उच्चायोग में ‘पाकिस्तान दिवस’ कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बुलाया है।

 

READ ALSO: RSS के लिए सबसे शानदार रहा 2015-16, 90 साल में कभी नहीं हुई थी इतनी तरक्‍की 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.