ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी सरकार पर दबाव बनाने के लिए चिट्ठी अभियान चलाएगा RSS से जुड़ा स्वदेशी जागरण मंच

चीन के खिलाफ अपने नए अभियान के तहत स्वदेशी जागरण मंच ने एक 'सुरक्षा अभियान मेमोरेंडम' जारी किया है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Image Source: PTI)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ा स्वदेशी जागरण मंच (SJM) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर दबाव बनाने के लिए चिट्ठी अभियान चलाने की तैयारी में है। यह चिट्ठी अभियान चीनी कंपनियों पर रोक लगाने के लिए चलाया जाएगा। अगर स्वदेशी जागरण मंच को अनुमति मिल जाती है तो पीएम मोदी को देश के हर जिले से चिट्ठी मिलेगी जिसमें चीन को भारत में निवेश करने पर रोक व सीमा से सटे राज्यों में चीनी कंपनियों को टेंडर भरने पर रोक लगाने की मांग की जाएगी।

चीन के खिलाफ अपने नए अभियान के तहत स्वदेशी जागरण मंच ने एक ‘सुरक्षा अभियान मेमोरेंडम’ जारी किया है। मंच चाहता है कि इसे देश का हर जिला मजिस्ट्रेट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजे। इस मेमोरेंडम में कहा गया है कि चीनी कंपनियों से देश की छोटे व्यापारों को नुकसान पहुंच रहा है और युवाओं के लिए बड़े स्तर पर बेरोजगारी फैल रही है। इसके अलावा पड़ोसी मुल्क होते हुए चीन लगातार भारत को प्रताड़ित कर रहा है।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64GB Blue
    ₹ 15398 MRP ₹ 17999 -14%
    ₹0 Cashback
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41999 MRP ₹ 52370 -20%
    ₹6000 Cashback

पहले से चलाते आ रहे चीनी कंपनियों के खिलाफ अभियान:

स्वदेशी जागरण मंच पहले से ही चीनी कंपनियों के खिलाफ अभियान चलाता आ रहा है। स्वदेशी जागरण मंच ने साल 2017 को “चीन विरोधी वर्ष” घोषित कर रखा है। स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय सह-संयोजक डॉक्टर अश्विनी महाजन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि अगर भारत और चीन के बीच दीवार बन जाए तो उन्हें खुशी होगी। जब डॉक्टर महाजन से पूछा गया कि क्या ग्लोबलाइजेशन से भारत और चीन को फायदा नहीं हुआ है? इस पर वो बोले, “अगर चीन में हर किसी को नौकरी मिल रही है तो इसकी वजह ये है कि वो अपना सामान बेचने में कामयाब हो रहे हैं लेकिन औसत अमेरिकी, ब्रिटिश और यूरोपीय घाटे में हैं।” महाजन ने आगे कहा, “सच ये है कि ग्लोबालइजेशन का फायदा केवल कुछ अमेरिकी कंपनियों को हुआ है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App