पेट्रोल-डीजल की महंगाई और सरकारी संपत्ति से पैसा बनाने के विरोध में आंदोलन करेगा RSS से जुड़ा संगठन

संयोग से बीएमएस का बयान ऐसे वक्त पर आया, जब यहां आरएसएस से जुड़े संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय बैठक चल रही थी। बीएमएस ने आगे बताया, “औद्योगिक गतिविधि में गिरावट, बेरोजगारी और आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि ने आम लोगों को बुरी तरह प्रभावित किया है।”

petrol, diesel, bms
महाराष्ट्र के पुणे शहर में डेक्कन इलाके में एक पेट्रोल पंप पर स्कूटी में तेल भराने के दौरान महिला। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः आशीष काले)

ईंधन के बढ़ते दाम, महंगाई और सरकारी संपत्तियों से बनाने के मुद्दे को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े संगठन मजदूर संघ भारतीय मजदूर संघ (बीएमएस) विरोध प्रदर्शन करेगा। बीएमएस ने चेताया है कि अगर सरकार ने महंगाई पर लगाम लगाने के लिए कदम नहीं उठाए तो वह देशव्यापी आंदोलन करेगा।

शुक्रवार को बीएमएस ने नई दिल्ली में एक विज्ञप्ति में कहा कि कोरोना वायरस महामारी के बीच पेट्रोल, डीजल और एलपीजी सिलेंडर की कीमतों में वृद्धि चिंता का विषय है। चेतावनी दी गई, “अगर सरकार ने महंगाई को कम करने के लिए कदम नहीं उठाए तो हर जिले में आंदोलन और जन जागरूकता अभियान चलाया जाएगा।”

बीएमएस की महाराष्ट्र में विदर्भ इकाई की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक, “इसके तहत नौ सितंबर को देश के हर जिले में महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा।” संयोग से बीएमएस का बयान ऐसे वक्त पर आया, जब यहां आरएसएस से जुड़े संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय बैठक चल रही थी। बीएमएस ने आगे बताया, “औद्योगिक गतिविधि में गिरावट, बेरोजगारी और आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि ने आम लोगों को बुरी तरह प्रभावित किया है।”

आरएसएस से संबंधित संघ की ओर से यह भी मांग की कि पेट्रोलियम उत्पादों को वस्तु और सेवा कर प्रणाली के तहत लाया जाए और वर्तमान प्रणाली जहां उनकी कीमतों में हर रोज उतार-चढ़ाव होता है, को समाप्त कर दिया जाए। बीएमएस ने आगे मांग की कि किसानों को लाभकारी मूल्य देकर खाद्यान्न का उत्पादन बढ़ाने के लिए कदम उठाए जाएं और महंगाई की मार झेल रहे श्रमिकों को सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों में मजदूरी बढ़ाकर मुआवजा दिया जाए।

अपनी पार्टी का महंगाई के खिलाफ हल्ला बोल!: जम्मू कश्मीर अपनी पार्टी की महिला शाखा ने बढ़ती महंगाई तथा ईंधन की कीमतों में हो रही बढोतरी के खिलाफ सोमवार को प्रदर्शन किया। इसका नेतृत्व संगठन की प्रांतीय अध्यक्ष नम्रता शर्मा ने किया। अधिकारियों ने बताया कि नम्रता एवं उनके कुछ अन्य सहयोगियों को एहतियात के तौर पर हिरासत में ले लिया गया, जब उन्होंने पुलिस घेरा को तोड़ने का प्रयास किया तथा निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर मार्च निकालने की कोशिश की। नम्रता ने कहा, “हम बढ़ती महंगाई और ईंधन की कीमतों में वृद्धि पर काबू पाने में सरकार की नाकामी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतर रहे हैं। इसने आम आदमी की रीढ़ तोड़ दी है।”

कांग्रेस ने “महंगाई डायन” का डाक टिकट बनवा साधा निशानाः मध्य प्रदेश के इंदौर में कांग्रेस नेताओं ने कहा कि उन्होंने रसोई गैस की कमरतोड़ महंगाई को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध जताने के लिए डाक विभाग की ”माय स्टाम्प” योजना के तहत दो खास डाक टिकट बनवाए हैं। कांग्रेस नेताओं ने बताया कि इनमें से एक डाक टिकट पर वह कार्टून छपा है जिसमें एक परेशान आम आदमी रसोई गैस सिलेंडर पर सवार “महंगाई की डायन” को ढोता दिखाई दे रहा है। कांग्रेसियों के मुताबिक दूसरे डाक टिकट पर रसोई गैस सिलेंडर की तस्वीर पर “अबकी बार, 1,000 पार” का नारा लिखकर इस घरेलू ईंधन के दाम लगातार बढ़ाए जाने की ओर ध्यान खींचा गया है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट