ताज़ा खबर
 

नारे लगाने से कोई देशभक्त या देशद्रोही नहीं होता: रोमिला थापर

यह किताब तीन लेखों का संग्रह है जिन्हें थापर, ए जी नूरानी और संस्कृति विशेषज्ञ सदानंद मेनन ने लिखा है और इस संकलन को अलेफ बुक कंपनी ने प्रकाशित किया है।

Author नई दिल्ली | July 29, 2016 16:09 pm
इतिहासकार रोमिला थापर। (एक्सप्रेस फोटो)

राष्ट्रवाद महज झंडा फहराने, नारे लगाने या ‘भारत माता की जय’ नहीं बोलने वालों को दंडित करने से साबित नहीं किया जा सकता बल्कि देश की जरूरतों को पूरा करने की बड़ी प्रतिबद्धता ही राष्ट्रवाद है। यह बात मशहूर इतिहासकार रोमिला थापर ने कही। उन्होंने अपनी नई किताब ‘आॅन नेशनलिज्म’ में लिखा है कि नारे लगाना या झंडा फहराने से उन लोगों में विश्वास की कमी झलकती है जो नारा लगाने की मांग करते हैं। यह किताब तीन लेखों का संग्रह है जिन्हें थापर, ए जी नूरानी और संस्कृति विशेषज्ञ सदानंद मेनन ने लिखा है और इस संकलन को अलेफ बुक कंपनी ने प्रकाशित किया है।

थापर ने कहा, ‘‘राष्ट्रवाद अपने समाज को समझने और उस समाज के सदस्य के तौर पर अपनी पहचान से जुड़ा हुआ है। इसे महज झंडा फहराने और नारे लगाने से जोड़कर नहीं देखा जा सकता और जो लोग ‘भारत माता की जय’ नहीं बोलते उन्हें दंडित कर इसे साबित नहीं किया जा सकता। यह उन लोगों में विश्वास की कमी दर्शाता है जो नारे लगाने की मांग करते हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘राष्ट्रवाद देश की जरूरतों को पूरा करने की बड़ी प्रतिबद्धता से जुड़ा हुआ है न कि नारे लगाने से और वह भी नारे क्षेत्र विशेष से हों या उन लोगों द्वारा हों जिनकी सीमित स्वीकार्यता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हाल में कहा गया कि वास्तव में यह विडम्बना है कि जो भी भारतीय यह नारा लगाने से इंकार कर देता है उसे तुरंत देशद्रोही घोषित कर दिया जाता है लेकिन जो भी भारतीय जानबूझकर कर नहीं चुकाता या काला धन विदेशों में जमा करता है उसे ऐसा घोषित नहीं किया जाता।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App